विधायक दीप्ति माहेश्वरी ने पहले सत्र में ही पूछे 100 प्रश्न

0
राजसमंद। विधानसभा सत्र में भाग लेने के दौरान विधायक हमेरसिंह के साथ संवाद करती विधायक दीप्ति।

उपचुनाव में विजय होने के बाद पहली बार विधानसभा सत्र में लिया भाग
चेतना भाट, राजसमंद। राजसमंद विधायक दीप्ति किरण माहेश्वरी उपचुनाव में विजय होने के बाद पहली बार विधानसभा सत्र में भाग ले रही है। इस सत्र में विधायक दीप्ति ने 40 तारांकित एवं 60 अतारांकित प्रश्न लगाकर सदन में अपनी सक्रियता और क्षेत्र की समस्याओं के लिए मुखर रहने के संकेत दे दिए हैं। विधायक दीप्ति ने 36 विभागों से संबंधित 40 तारांकित प्रश्न और 55 विभागों से संबंधित 60 अतारांकित प्रश्न पूछ कर लगभग सभी शासकीय विभागों से विकास कार्यों, बजट घोषणाओं की क्रियान्विति एवं सरकार द्वारा चलाई जा रही विभिन्न योजनाओं की स्थिति के बारे में सूचनाएं मांगी है। किसी नए युवा विधायक द्वारा अपने पहले ही सत्र में प्रश्नकाल और सदन की कार्यवाही के लिए इतनी गंभीरता का यह प्रथम उदाहरण है। उल्लेखनीय है कि दिवंगत विधायक एवं पूर्व कैबिनेट मंत्री स्वर्गीय किरण माहेश्वरी भी सदन में प्रश्न पूछने, विशेष उल्लेख एवं कार्य स्थगन प्रस्ताव आदि के द्वारा क्षेत्रीय समस्याओं के समाधान के लिए बहुत सक्रिय रहती थी। विधायक दीप्ति ने राजसमंद जिला चिकित्सालय की दुर्दशा और स्वास्थ्य एवं चिकित्सा क्षेत्र में सरकारी घोषणाओं के यथार्थ को सामने लाने के लिए दो तारांकित प्रश्न लगाएं और धारा 295 में विशेष उल्लेख के लिए प्रस्ताव दिया है। कोरोना संक्रमण के समय राज्य सरकार के कुप्रबंधन और लापरवाही के कारण ऑक्सीजन की कमी से प्रदेश में कितने ही लोगों की मृत्यु हो गई थी। विधायक दीप्ति ने तारांकित प्रश्न के माध्यम से सरकार से ऑक्सीजन की कमी के कारण वर्ष 2020-21 एवं 21-22 में कोरोना संक्रमितों एवं अन्य लोगों की मृत्यु, ऑक्सीजन के उत्पादन भंडारण और परिवहन पर निवेश एवं आपूर्ति के बारे में सूचनाएं मांगी है। केंद्र सरकार के अति सक्रिय सहयोग के कारण ही ऑक्सीजन संकट पर समय रहते नियंत्रण कर लिया गया था। स्वास्थ्य राज्य सरकार के कार्य क्षेत्र का विषय हैए फिर भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शिक्षा और स्वास्थ्य को विशेष प्राथमिकता देते हैं और इसके लिए भरपुर केंद्रीय सहायता भी देते हैं। राज्य सरकार ने राजस्थान निरोगी प्रबंधन कोष का गठन कर प्रदेश में स्वास्थ्य संरचना और स्वास्थ्य शिक्षा को गति देने की घोषणा की थी। विधायक दीप्ति ने प्रदेश सरकार से वर्ष 2020-21 एवं 21-22 में निरोगी प्रबंधन कोष को दिए गए अभिदान, कोष द्वारा किए गए प्रमुख कार्य और राजसमंद में कोष की योजनाओं के क्रियान्वित की स्थिति के बारे में भी तारांकित प्रश्न लगाया।

राजसमंद चिकित्सालय की दुर्दशा

विधायक दिप्ति माहेश्वरी ने राजसमंद के जिला चिकित्सालय की प्रदेश सरकार द्वारा की जा रही दुर्दशा की कड़ी आलोचना की है। चिकित्सालय में चिकित्सकों की कमी, सहायक चिकित्साकर्मियों का अभाव और आवश्यक सुविधाओं की अनदेखी के कारण कई गंभीर रोगियों की प्राण संकट में आ रहे हैं। जिला चिकित्सालय रोगियों को अन्यत्र रेफर करने का चिकित्सालय बनकर रह गया है। स्वयं विधायक दीप्ति ने चिकित्सालय की प्रमुख चिकित्सा अधिकारी को रविवार रात्रि को एक गर्भवती महिला के प्रसव के लिए अनुरोध किया था। किंतु यहां की महिला चिकित्सक ने उसे कोई उपचार देने के स्थान पर यह कहते हुए उदयपुर के लिए रेफर कर दिया कि यहां पर सिजेरियन के लिए आवश्यक सुविधाएं नहीं है। चिकित्सालय में कोई रेडियोलॉजिस्ट नहीं है। अधिकांश विभागों में एक भी चिकित्सक नहीं है। एक तरफ राज्य सरकार बड़े शहरों के चिकित्सालयों के लिए करोड़ों रुपए खर्च करने की घोषणा कर रही है, वह छोटे जिलों के चिकित्सालयों की कोई सुध नहीं ले रही है।

प्रचार जीवी है राजस्थान सरकार

विधायक दीप्ति ने कहा कि राजस्थान सरकार झूठे वादे और थोथी घोषणाओं का प्रचार करने की सरकार बन कर रह गई है। सरकार के मंत्री और प्रदेश कांग्रेस नेता केवल झूठे प्रचार के बल पर शासन की छवि बनाने का असफल प्रयास कर रहे हैं। उपचुनाव के समय राजसमंद चिकित्सालय में थोड़े समय के लिए प्रतिनियुक्ति पर चिकित्सकों को लगाकर जनता को भ्रमित करने का सरकार का मंतव्य अब प्रकट हो चुका है। जिले के लगभग सभी चिकित्सालयों की हालात गंभीर हैं। रुग्ण चिकित्सालयों को स्वयं उपचार की जरूरत है, इनसे जनता उपचार की क्या अपेक्षा करें। चिकित्सालय में अव्यवस्था के कारण जनता को विवश होकर निजी चिकित्सालयों की शरण में जाना पड़ रहा है। पर सरकार को कोई चिंता नहीं। मुख्यमंत्री एवं चिकित्सा और स्वास्थ्य मंत्री को विधायक ने इस संबंध में पत्र भी लिखे एवं व्यक्तिगत अनुरोध भी किए हैं। एक बार फिर वे कार्य स्थगन प्रस्ताव द्वारा सरकार का ध्यान राजसमंद के जिला चिकित्सालय की गंभीर स्थिति की ओर आकृष्ट करेगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here