कृषि में नव-तकनीकी अपना कर स्वावलम्बी बनें : गुर्जर

0
राजसमंद। पोषण वाटिका महाभियान एवं वृक्षारोपण कार्यक्रम के दौरान किसानों को सब्जियों के मीनीकिट एवं फलदार पौधे वितरित करते अतिथि। फोटो-प्रहलाद पालीवाल

पोषण वाटिका महाभियान एवं पौधरोपण कार्यक्रम का आयोजन
चेतना भाट, राजसमंद। कृषि विज्ञान केंद्र द्वारा आयोजित अन्तर्राष्ट्रीय पोषक अनाज वर्ष 2023 के परिपेक्ष्य में पोषण वाटिका महाभियान एवं वृक्षारोपण कार्यक्रम में मुख्य अतिथि उपजिला प्रमुख सोहनी देवी गुर्जर ने सभी किसान, महिलाओं एवं कार्यकर्ताओ से आव्हान किया कि महिला कृषि में प्रसंस्करण एवं मूल्य संवर्धन द्वारा स्वरोजगार को अपनाते हुए स्वावलम्बी बने। उन्होने यह भी बताया कि सरकार द्वारा संचालीत विभिन्न योजनाओं का ज्यादा से ज्यादा फायदा उठाए। कार्यक्रम के प्रारम्भ में वरिष्ठ वैज्ञानिक एवं अध्यक्ष कृषि विज्ञान केन्द्र डॉ. पीसी रेगर ने स्वागत उद्बोधन देते हुए केन्द्र की विभिन्न गतिविधियों एवं योजनाओं की जानकारी प्रदान की। विशिष्ठ अतिथि समाज सेवी एवं जिला प्रमुख प्रतिनिधि माधवलाल जाट ने कहां कि सरकारी की विभिन्न योजनाओं के साथ कृषि की नव तकनिकियों को अपनाते हुए आत्मनिर्भर बनने का प्रयास करे एवं उन्नत कृषि तकनिकि को अपनाए। इफको प्रतिनिधि उत्कर्ष यादव ने नेनो यूरिया कि उपयोगिता एवं प्रयोग की विधि के बारे में जानकारी दी। वरिष्ठ वैज्ञानिक डॉ पीसी रेगर ने आगन्तुक किसानो, महिलाओं से आव्हान किया कि वे कृषि के साथ-साथ सहायक व्यवसाय जैसे-सब्जी एवं फल उत्पादन, खाद्य प्रसंस्करण, मुर्गी पालन, बकरी पालन व्यवसाय भी करे जिससे उन्हे अतिरिक्त आय प्राप्त हो एवं आत्मनिर्भर बन सके। कार्यक्रम में किसानों व महिलाओं को सब्जियों के मीनीकिट एवं फलदार पौधे प्रदान किए ग। अतिथियों ने कार्यालय परिसर में पौधा रोपण किया। संचालन केन्द्र के मृदा वैज्ञानिक डॉ. मनीराम ने किया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here