द्वारकाधीश मंदिर में जन्माष्टमी की बैठी बधाई, केसरी कमल हिंडोलना में विराजे द्वारकाधीश

0
राजसमंद। द्वारकाधीश मंदिर में केसरी कमल हिंडोलना मनोरथ को लंकर की गई सजावट।

राजसमंद, चेतना भाट। श्री पुष्टिमार्गीय तृतीय पीठ प्रन्यास के द्वारकाधीश मंदिर में मंगलवार को जन्माष्टमी की बधाई बेठी। मंगलवार से जन्माष्टमी तक प्रभु द्वारकाधीश के मंदिर में कीर्तनकार द्वारा बधाई के पदों का गायन किया जाएगा। साथ ही ग्वाल के दर्शन में प्रभु द्वारकाधीश के सम्मुख खेल होगा। खेल से तात्पर्य है प्रभु के सम्मुख नाना प्रकार के खिलौने चलाए जाएंगे। इस मौके पर श्रंगार में प्रभु श्री द्वारकाधीश को श्री मस्तक पर मजले साज की केसरी कुले जिस पर 11 चंद्रिका का सादा जोड़, केसरी बड़ा पिछोड़ा, हीरा पन्ना माणक के 2 जोड़ी के श्रीनगार धराय गए। तत्पश्चात शाम को आरती के दर्शनों के उपरांत प्रभु को तृतीय पीठाधीश्वर गोस्वामी बृजेश कुमार महाराज की आज्ञा अनुसार निज मंदिर स्थित रतन चौक में केसरी कमल के हिंडोलने में विराजित किया गया। इन दर्शनों को करने के लिए सैकड़ों की संख्या में श्रद्धालु द्वारकाधीश मंदिर पहुंचे जिन्हें कोरोना गाइडलाइन के अनुसार दर्शन करवाए गए।

महात्मा गंधी अंग्रेजी माध्यम में सीटे बढ़ाने की मांग, सीएम को भेजा पत्र

राजसमंद। राजकीय महात्मा गांधी इंग्लिस मिडियम स्कूल राजसमन्द (राजनगर) में बड़ी संख्या में अलग-अलग कक्षाओं के लिए प्रवेष के लिए आवेदन आए लेकिन आवेदनों की संख्या अधिक होने व रिक्त सीटे सिमित होने की स्थिति में अभिभावकों ने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत एंव शिक्षा मंत्री गोविन्द सिंह डोटासरा को पत्र भेजकर सीटे बढ़ाने की मांग करते हुए प्रतिक्षा सूची में प्रतिक्षारत विद्यार्थियों के अनुपात में सीटे बढ़ाने की मांग की। वही अभिभावकों ने विद्यार्थियों की संख्या के अनुसार विद्यालय में शिक्षकों के पद स्वीकृत करते हुए पदो की संख्या में बढोत्तरी कर इस सत्र में प्रतिनियुक्ति करने की मांग की है। अभिभावक संघ के जगदीश पालीवाल ने पत्र भेजकर बताया कि इग्लिस मिडियम विद्यालय राजसमंद में कक्षा 6 से 8 तक प्रत्येक कक्षाओं में 70-70 सीटे प्रवेष के लिए स्वीकृत है लेकिन कक्षा पहली से पांचवी तक 60-60 सीटे ही स्वीकृत है इसको लेकर पालीवाल ने राज्य सरकार ने मांग की है कि कक्षा पहली से पांचवी तक प्रत्येक कक्षा में 10-10 सीटो की वृद्धी कर प्रतिक्षा सूची में प्रतिक्षारत विद्याार्थियों को प्राथमिक वरियता के आधार पर प्रवेश दिया जाए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here