हकीम खां सूरी की मजार पर तोडफ़ोड़, खमनोर थाना प्रभारी लाइन हाजिर

0

राजसमंद/खमनोर। जिले के खमनोर थाना क्षेत्र में हल्दीघाटी दर्रे में स्थित महाराणा प्रताप के सेनापति हकीम खां सुरी की मजार पर सोमवार देर रात असामाजिक तत्वों ने तोडफ़ोड़ कर दी। मजार को पूरी तरह खत्म कर दिया गया व मजार पर लगे टीन शेड को तोड़ दिया। घटना की सूचना पर देर रात ही पुलिस मौके पर पहुंच गई और थानाधिकारी कैलाश सिंह मौके की मौजूदगी में टूटे टीन शेड सही किए। इस बीच पुलिस द्वारा रात से ही मजार निर्माण का कार्य शुरू कर दिया और मंगलवार देर शाम तक कार्य जारी था। संदिग्ध गतिविधि वाले बदमाशों के खिलाफ देर रात पुलिस ने मामला दर्ज कर अज्ञात बदमाशो की तलाश शुरू कर दी। पुलिस रातभर असामाजिक तत्वों की तलाश में पुलिस जुटी रही। इधर, कानून व्यवस्था बिगडने पर खमनोर थाना प्रभारी कैलाशसिंह को लाइन हाजिर कर दिया है। प्राप्त जानकारी के अनुसार हल्दीघाटी दर्रे में महाराणा प्रताप के सेनापति हकीम खां सुरी की मजार बनी हुई है, जहां देर रात असामाजिक तत्वों द्वारा तोडफोड़ कर दी गई। घटना की सूचना पर खमनोर थाना प्रभारी कैलाशसिंह मय जाब्ते के घटना स्थल पर पहुंच गए, मगर तक बदमाश प्रवृत्ति के लोग फरार हो गए। फिर रातभर असामाजिक तत्वों की तलाश में पुलिस जुटी रही, लेकिन मंगलवार दोपहर तक भी बदमाशों का पता नहीं चल सका। इस बीच कानून एवं शांति व्यवस्था को लेकर नाथद्वारा पुलिस उप अधीक्षक जितेंद्र आंचलिया व राजसमंद पुलिस उप अधीक्षक बेनीप्रसाद मीणा के साथ भारी पुलिस जाब्ता तैनात कर दिया गया। असामाजिक तत्वों के खिलाफ खमनोर थाने में प्रकरण दर्ज कर लिया है। साथ ही अल सुबह ही पुलिस ने क्षेत्र के प्रबुद्धजनों की मौजूदगी में क्षतिग्रस्त मजार की मरम्मत करवा दी। पुलिस की प्रारंभिक जांच में किसी अज्ञात सिरफिरे या विक्षिप्त द्वारा मजार पर तोडफ़ोड़ करने की बात सामने आ रही है, मगर पुलिस समग्र पहलुओं की तहकीकात में जुटी है। मजार पर नई टाइल्स जोड़ते हुए व्यवस्थित कर चादर चढ़ाई गई।

पुलिस छावनी बन गया हल्दीघाटी

मजार से तोडफोड़ की घटना के बाद पुलिस एवं प्रशासनिक अधिकारियों के साथ भारी पुलिस जाब्ता तैनात हो गया। इस तरह हल्दीघाटी क्षेत्र पुलिस छावनी में तब्दील हो गया। फिलहाल हल्दीघाटी से लेकर खमनोर तक शांति व्यवस्था कायम है। इसके लिए पुलिस एवं प्रशासनिक अधिकारियों द्वारा क्षेत्र के प्रबुद्धजनों को बुलाकर विशेष बैठक भी की। इधर, घटना के बाद जिला पुलिस अधीक्षक सुधीर चौधरी ने खमनोर थाना प्रभारी कैलाशसिंह को लाइन हाजिर कर दिया। साथ ही उप निरीक्षक नवलकिशोर को खमनोर थाने की कमान सौंपी है, जो पहले देलवाड़ा थानेदार रह चुके हैं।

थानाधिकारी को हटाने से ग्रामीणों में रोष

मजार में तोड़ फोड़ के मामले को लेकर थानाधिकारी कैलाश सिंह को लाइन हाजिर करने के मामले को लेकर दोनों समुदाय के लोगो ने रोष व्यक्त किया। ग्रामीणों ने बताया कि घटना को लेकर थानाधिकारी द्वारा तुरन्त घटना स्थल पर पहुंच कर मजार को रात में ही सही करवाया दिया गया। जिसके कारण समुदाय विषेश के लोगो में आपसी सोहाद्र बना रहा है कोई बड़ा मामला नही हुआ। दोनों समुदायो के बीच आपसी सामंजस्य बनाए रखा था।

कुछ दिनों पूर्व सोशल मीडिया पर वायरल हुई पोस्ट

हल्दीघाटी में बनी मजार को लेकर कुछ दिन पूर्व सोशल मीडिया पर वीडियो वायरल हो रहा था जिसमे हल्दीघाटी में बनी मजार पर मस्जिद बनाने का जिक्र किया जा रहा था। हालांकि लोगों का कहना है कि वहां पर केवल मजार ही बनी हुई है किसी भी प्रकार की मस्जिद नहीं बनाई गई है। खमनोर के हल्दीघाटी में महाराणा प्रताप के सेनापति हकीम खां सुर की मजार से तोडफ़ोड़ की घटना से क्षेत्रीय लोगों में सामाजिक द्वेषता फैलाने की कोशिशें असामाजिक तत्वों द्वारा पहले भी कई बार फैलाईए मगर क्षेत्र के सर्वसमुदाय लोगों आपसी सामंजस्यए सौहाद्र्रता व भाईचारे की भावना प्रबल है। खमनोर क्षेत्र के सर्व समुदाय के लोगों ने कौमी एकता का परिचय दिया। सर्व समुदाय में आपसी सामंजस्यए सौहार्दता व भाईचारे की अखंडता मजार पर तोडफ़ोड़ की घटना के बाद और मजबूत हो गई।

खमनोर। हल्दीघाटी दर्रे में बनी हकीम खां सुर की मजार पर असामाजिक तत्वों द्वारा की गई तोडफोड़ व घटना को लेकर लोगो से जानकारी लेते राजसमन्द डीएसपी मीणा।

पहले वर्ष 2016 में हुई थी घटना

वर्ष 2016 में 17 या 18 फरवरी को भी असामाजिक तत्वों द्वारा इसी मजार को तोडफ़ोड़ करते हुए क्षतिग्रस्त कर दिया था। घटना के बाद उस वक्त भी तत्कालीन थाना प्रभारी दिवंगत महेश मीणा मौके पर पहुंचे और क्षतिग्रस्त मजार को ठीक करवाया था और उस वक्त भी सर्वसमुदाय के लोगों ने एकजुटता दिखाते हुए असामाजिक तत्वों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की मांग की गई थी। लोगों ने हकीम खां के आदर्श को आत्मसात करते हुए कौमी एकता का परिचय दिया। घटना के बाद खमनोर में सर्वसमुदाय के लोग एकजुट दिखेए जो पुलिस से एक ही मांग कर रहे थे कि घटना की निष्पक्ष जांच कर आरोपित पर सख्त कार्रवाई करें। सामाजिक स्थल पर तोडफ़ोड़ कर आमजन में विध्वंस फैलाने के प्रयास की सबने कड़े शब्दों में निंदा की।

मजार ध्वस्त करने की तीसरी घटना

हकीम खां सुर की मजार को ध्वस्त करने की घटनाएं पहले भी हो चुकी है, मगर क्षेत्रीय लोगों में आपसी भाईचारा व सौहाद्र्रता की भावना प्रबल है। कथित तौर पर मजार पर यह तीसरी घटना बताई जा रही है। हालांकि एक घटना 17 या 18 फरवरी 2016 को होने की पुष्टि हुई है, जबकि उससे पहले की तारीख स्पष्ट नहीं हो पाई है।

इनका कहना . . . .

सोशल मिडिया पर कुछ दिनों मैसेज वायरल हो रहे थे, जिसकी निगरानी के लिए एसएचओं को आदेश दिए हुए थे। जिसकी नियमित निगरानी भी की जा रहीं थी। लेकिन कुछ लापरवाही की वजह से मजार पर छोटी-मोटी तोड़-फोड़ हुई है। जिसको तत्काल रिपेयर कर दिया गया है। प्रथम दृष्टया एसएचओं की लापरवाही रहीं है, जिसे तत्काल लाईन हाजिर कर दिया है। घटना को लेकर दोनों ही समुदाय के लोगों की बैठक ली। लोगों का मानना है कि इस कृत्य को करने वाले को इतिहास की जानकारी नहीं है। इसीलिए इस घटना को अंजाम दिया है। ग्रामीणों ने आरोपियों को गिरफ्तार कर उनके खिलाफ कठोर कार्यवाही की मांग की है। मामला दर्ज कर आरोपियों को पकडऩे के लिए विषेश टीम का गठन कर जांच शुरू कर दी है।
सुधीर चौधरी-जिला पुलिस अधीक्षक, राजसमंद।

दोषियों के खिलाफ सख्त हो कार्रवाई
खमनोर क्षेत्र में सर्वसमुदाय के लोग आपसी भाईचारे से रहते हैं, मगर कतिपय समाजकंटक द्वेषता फैलाने की कोशिश कर रहे हैं। ऐसे बदमाशों के खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाई होनी चाहिए, ताकि दोबारा इस तरह सामाजिक द्वेषता फैलाने की कोई जरूरत नहीं करें।
आजाद खान, सचिव मुस्लिम समाज खमनोर

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here