श्रीएकलिंगो विजयते
सभी फोटो : कबीर जेठी

कई दिनों से ये सोच रहा था कि 19 अगस्त को वर्ल्ड फोटोग्राफी डे है तो कुछ यूनिक करना चाहिए। ये फोटोग्राफर का एक फर्ज है और उसकी समर्पण दर्शाने वाली तमन्ना। जैसे कोई संगीत साधक संगीत दिवस को, जैसे कोई डॉक्टर डॉक्टर डे को, एक इंजीनियर इंजीनियरिंग डे को मनाकर अपने काम और उसके समर्पण को दर्शाता है। रात को कैमरे की बैट्री चार्ज करते ही महाशय (कैमरे) को बोला कि महाशय एमडीएच कल एक मिशन पर चलना है कोई बहाना मत बनाना। एमडीएच मसाले वाला नहीं बल्कि इसका मतलब है माई डियर हार्ट। फिर बुधवार को यानी आज सुबह उठा और मेरे मित्र कबीर जेठी को कॉल किया। उसने एक घण्टे बाद तय स्थान पर मिलने को कहा। मैं उसका इंतजार कर ही रहा था कि मुझे एक ग़ज़ल याद आ गई। जो लिखी थी पुष्कर गुप्तेश्वर जी ने। पहले आप इस ग़ज़ल को सुनिए फिर आगे बढ़ते है।
सभी फोटो : कबीर जेठी
तो सुनिए ग़ज़ल….. शहर उदयपुर….
अव्वल-आला शहर उदयपुर!
झीलों वाला शहर उदयपुर!!
अरावली की पहने सुंदर!
पर्वतमाला शहर उदयपुर!!
राजस्थान का काश्मीर है!
हरि हरियाला शहर उदयपुर!!
भक्ति-शक्ति का पावन-संगम!
निरा निराला शहर उदयपुर!!
स्मार्ट-सिटी कहलाये अब तो!
जग-उजियाला शहर उदयपुर!!
तुतलाती गुड़िया भी बोले!
“हेलो हमाला छहल उदयपुल!!”
कबीर जेठी (DOP और युवा पत्रकार)
ये ग़ज़ल गुनगुनाने के बाद शहर की खूबसूरती को कैमरे में कैद करने निकले हम। शहर की सबसे ऊंची 20 माला वाली बिल्डिंग पर चढ़कर हमने आपके और आपके लिए 200 फीट ऊपर से कुछ बेहतरीन फोटो क्लिक किये। तनिक देखिए और बताइए अव्वल आला शहर उदयपुर और उनकी खूबसूरती कैसी लगी आपको।
योगेश सुखवाल (Dop एंड the udaipur updates के डायरेक्टर)