सर्द हवाओं से वाहनों व फसलों पर जमी बर्फ
बर्फिली सर्द हवाओं से थरथराया बदन
राजसमंद, चेतना भाट। पिछले दो दिनों शीत लहर चलने के साथ ही यकायक बढ़ी ठंड से लोगों को दिन रात ठिठुरने को मजबूर कर दिया है। लगातार दो दिनों से तापमान में 0.5 की गिरावट के साथ की मंगलवार को जिले का न्यूनतम तापमान 1 डिग्री दर्ज किया गया। जबकि अधिकतम तापमान 0.9 डिग्री की गिरावट के साथ 22.4 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। लगातार चली बर्फिली सर्द हवाओं से रातें बर्फिली है वहीं दिन सूरज की धुप एवं अलाव के सामने भी हाथों व पैरों की अंगूलियों गलन हो रही है। जिले के कई जगहों पर रात के समय वाहनों की छतों एवं खेतों में फसलों पर ओंस की बूंदें बर्फ बनकर जम गई। सर्द हवाओं के कारण मौसम काफी ठंडा हो गया जिससे गर्म कपड़े पहनने के बाद भी लोगों के दांत किटकिटा रहे है। मौसम विभाग के अनुसार पश्चिमी विक्षोभ के चलते अगले चार-पांच दिनों तक ठंड के बढऩे के आसार है वहीं कहीं-कहीं मावठ के चलते बारिश भी हो सकती है।

राजसमंद। बीती रात को रात्री में गौमती पुलिस चौकी के बाहर खड़ी कार की छत पर जमी बर्फ की परत एवं खेतों में फसलों पर बर्फ में तब्दिल हुई ओस की बूंदे।


फसलों व वाहनों पर जमी बर्फ
ठंड के बढऩे के कारण चारभुजा के गौमती चौराहा स्थित पुलिस चौकी के बाहर खड़े वाहनों की छतों पर बर्फ की चादर बिछ गई। ठंड से लोग दिनभर घरों में दुबके रहे। सर्द हवाएं चलने से बैंगन, टमाटर, मिर्च की सफलों के पत्तों में दाह लग गया। ईधर, पपीता व केलों के साथ गेहूं की बालियों पर भी असर पड़ा। इसी तरह मोही ग्राम में भी शीत लहर के चलते बीती रात ओस गिरने से फसलों पर बर्फ जमा हो गई। अत्यधिक ठंड के चलते पाला गिरने से फसल खराबो को लेकर किसनों के चेहरों पर चिंता छा गई है। गांव में बैंगन, पालक सहित अन्य सब्जियों के भी खराब होने के समाचार मिले है।
ठिठुरते हुए कोचिंग पहुंचे बच्चे
कोविड-19 के बाद से विद्यालय बंद है। बच्चों को शिक्षा से जोडऩे के लिए सरकार की ओर से स्माईड- 2 कार्यक्रम चला रखा है। कार्यक्रम के तहत ऑन लाईन शिक्षण कार्य करवाने के साथ ही घर-घर जाकर शिक्षकों द्वारा बच्चों को शिक्षण कार्य करवा रहे है। लेकिन पिछले काफी समय से शिक्षण व्यवस्था भी चरमरा गई है। लेकिन फिर भी शिक्षा को महत्व देकर कडक़ड़ाती ठंड में भी बच्चे सुबह ठिठुरते हुए कोचिंग संस्थानों में पढऩे के लिए पहुंच रहे है। हर वर्ष सरकार की ओर से ठंड के बढऩे पर विद्यालयों के शीतकालीन अवकाश घोषित कर दिया जाता है। लेकिन इस वर्ष कोरोना ने पूरे वर्ष ही अवकाश घोषित करवा दिया। ईधर, कोरोना संक्रमण के चलते विद्यालय तक बंद रखे गए है लेकिन इसके बावजूद भी कुछ कोचिंग संस्थान संचालकों द्वारा बच्चों को कोचिंग पर बुलाकर बच्चों के स्वास्थ्य को खतरे में डाला जा रहा है।

राजसमंद। बर्फिली हवाओं एवं ठंड के बीच शिक्षा के लिए कोचिंग संस्थान जाते बच्चे।

जिला बाल संरक्षण इकाई एवं सीएबी की समीक्षा बैठक आज


राजसमंद। जिला कलक्टर एवं जिला बाल संरक्षण इकाई के निर्देशानुसार जिला बाल संरक्षण इकाई एवं सीएबी की समीक्षा बैठक का आयोजन जिला कलक्टर एवं अध्यक्ष अरविंद कुमार पोसवाल की अध्यक्षता में बुधवार को प्रात: 11 बजे जिला कलेक्टर कार्यालय के सभाकक्ष में किया जाएगा। बाल अधिकारिता एवं जिला बाल संरक्षण इकाई सहायक निदेशक कृष्णकांत सांखला ने बताया कि बैठक में विभिन्न एजेंडों पर चर्चा की जाएगी। जिसमें बाल कल्याण समिति के प्रकरणों की समीक्षा, किशोर न्याय बोर्ड के प्रकरणों की समीक्षा, जिले में संचालित राजकीय संप्रेक्षण एवं किशोर गृह, अभिरक्षा गृह, विशेष गृह व शिशु गृह के बारे में जानकारी, पोक्सो प्रकरणों की प्रगति की समीक्षा, पोक्सो एक्ट में प्रावधान की जानकारी, बीएलसीपीसी एवं वीएलसीसी का बाल संरक्षण के क्षेत्र में महत्व, ब्लॉक स्तरीय बाल संरक्षण समिति तथा ग्राम पंचायत स्तरीय बाल संरक्षण समितियों के गठन की प्रगति रिपोर्ट की समीक्षा आदि के साथ ही जिले में संचालित चाईल्ड लाईन द्वारा अब तक किए गए कार्यों की प्रगति की समीक्षा एवं बाठ के गठन के उद्देश्य की जानकारी विभिन्न बिन्दुओं पर विभिन्न समाजसेवी एवं भामाशाह के समंवित प्रयासों के कार्य की योजना के साथचर्चा की जाएगी।