टॉल प्लाजा पर लगने वाली लम्बी लाइनों से मिलेगी राहत
राजसमंद, चेतना भाट। राजसमंद जिले से गुजर रहे उदयुपर-गौमती फारलेन व राजसमंद-भीलवाड़ा राष्ट्रीय राजमार्गों पर सडक़ों की मॉनिटरिंग व मरम्मत के लिए स्थापित राजसमंद जिले के नेगडिया, माण्डावाड़ा, बाघाना, रूपाखेड़ा सहित कुल चार टोल प्लाजा पर 1 जनवरी 2021 से टॉलेबल वाहनों के लिए फास्टैग अनिवार्य होगा। राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण 1 जनवरी से सभी टोल प्लाजा पर कैशलेन बंद करने जा रहा है। ऐसे में चार पहिया वाहन 1 जनवरी के बाद टोल से बिना फास्टेग नहीं निकल सकेंगे। नेशनल हाइवे अथारिटी ऑफ इंडिया (एनएचएआई) सभी टोल प्लाजा पर नकद लेन-देन बंद करने जा रहा है। इसके लिए देश के सभी राज्यों को सभी टॉल लगने वाले वाहनों में 31 दिसंबर तक फास्टैग लगाने को कहा गया है। एनएचएआई ने देशभर के नेशनल हाईवे के टोल प्लाजा पर सौ फीसदी लेन को फास्टैग करने का निर्णय किया है। इसकी तैयारी शुरू कर दी गई है। अभी राजस्थान सहित जिले से गुजर रहे राष्ट्रीय राजमार्गों पर स्थापित टोल प्लाजा पर फास्टैग के साथ-साथ कैश वाहनों के लिए भी लेन है। नकद लेन-देन बंद करने से टोल प्लाजा की सभी लेन फास्टैग लगे वाहनों के लिए हो जाएगी। राजसमंद जिले से गुजर रहे राष्ट्रीय राजमार्गों पर इस समय उदयपुर-राजसमंद-ब्यावर नेशनल हाईवे आठ पर नेगडिया, माण्डावाड़ा, बाघाना टोल प्लाजा स्थापित हैं, इसके अलावा राजसमंद-भीलवाड़ा नेशनल हाईवे पर रूपाखेड़ा व मुजरास टोल प्लाजा स्थापित हैं। जहां आगामी दिनों में नकद लेन-देन खत्म कर दिया जाएगा। जिसको लेकर सभी टोल प्लाजा को इसके लिए तैयार करने का काम शुरु किया जा चुका है। एनएचएआई के प्रोजेक्ट डायरेक्टर लोकेश राजपुरोहित ने बताया कि 1 जनवरी 2021 से सभी टॉलेबल वाहनों वाहनों के लिए फास्टैग अनिवार्य होगा। जिसको लेकर सभी टॉल प्लाजा प्रबंधक को आवश्यक निर्देश दे दिए है। साथ ही उनकों फास्टैग के सेल पॉइंट बढ़ाने के आदेश दिए है। इसके अलावा फास्टैग के सेल पॉइंट बढ़ाने के लिए पेट्रोलियम व ऑयल कंपनियों के साथ करार चल रहा है जो बैंकों के माध्यम से हर पेट्रोल पंप पर सेल पॉइंट लगाऐंगे। इससे पहले हर टॉलप्लाजा पर एक लेन में नकद लेन-देने की सुविधा उपलब्ध रहती थी। जिसके चलते बिना फास्टैग लगे वाहनों को आवाजही के लिए सुविधा थी। 1 जनवरी के बाद बिना फोस्टैग के वाहनों को टॉल प्लाजा से नहीं निकाला जाएगा। बिना फास्टैग के टॉल क्रोस करने पर उन्हें दुगुनी पैनल्टी देनी होगी

क्या है फास्टेग सिस्टम सेवा

टोल प्लाजाओं पर टोल कलेक्शन सिस्टम से होने वाली परेशानियों का हल निकालने के लिए नेशनल हाईवेज अथॉरिटी ऑफ इंडिया ने इलेक्ट्रॉनिक टोल कलेक्शन सिस्टम शुरू किया गया है। इलेक्ट्रॉनिक टोल कलेक्शन सिस्टम या फास्टैग स्कीम सबसे पहले 2014 में शुरू की गई थी। जिसे धीरे-धीरे सभी टोल प्लाजा पर लागू किया जा रहा है। फास्टैग की मदद से टोल प्लाजा में बिना रुके टोल प्लाजा टैक्स चुकाया जाता है। वाहन की विंडस्क्रीन में फास्टैग लगाया जाता है और इसमें रेडियो फ्रिक्वेंसी आइडेंटिफिकेशन (आरएफआईडी) लगा होता है। जैसे ही गाड़ी टोल प्लाजा के पास आती है, तो टोल प्लाजा पर लगा सेंसर वाहन की विंडस्क्रीन पर लगे फास्टैग के संपर्क में आते ही फास्टैग से जुड़े अकाउंट से उस टोल प्लाजा पर लगने वाला शुल्क काट लेता है। वाहन में लगा ये टैग आपके प्रीपेड खाते के सक्रिय होते ही अपना कार्य शुरू कर देता है। जब फास्टैग अकांउट की राशि खत्म हो जाती है तो उसे दोबारा रिचार्ज करवाना पड़ेगा।