तैयारियां पूरीतीन घण्टे के स्थान पर दो घण्टे की होगी परीक्षा, 66 केंद्रों पर होगी परीक्षा

उदयपुर। मोहनलाल सुखाड़िया विश्वविद्यालय के यूजी और पीजी अंतिम वर्ष की शेष परीक्षाएं गुरुवार से शुरू होगी। परीक्षा तीन पारियों में होगी तथा तीन घण्टे के स्थान पर दो घण्टे की परीक्षा होगी। कुलपति प्रो अमेरिका सिंह ने सभी विद्यार्थियों को शुभकामनाएं देते हुए कहा कि कोविड गाइडलाइन का पालन करते हुए एहतियात के साथ परीक्षा दें।
विवि प्रवक्ता डॉ कुंजन आचार्य ने बताया कि परीक्षाओं की तैयारी को बुधवार को अंतिम रूप दिया गया। समस्त सामग्री परीक्षा केंद्रो पर पहुंच गई है साथ ही कोरोना जागरूकता पोस्टर भी पहुंचाया गया है जो कि हर केंद्र के बाहर प्रदर्शित किया जाएगा। इसके साथ ही हर केंद्र पर 50 मास्क भेजे गए हैं ताकि यदि कोई विद्यार्थी बिना मास्क के पहुंच गया तो उसको दिया जाएगा। सराडा परीक्षा केंद्र के अधीक्षक ने परीक्षा नियंत्रक डॉ राजेश कुमावत को आग्रह करके 300 मास्क मांगे जो कि संबंधित परीक्षा केंद्र पर पहुंचा दिए गए हैं। परीक्षा नियंत्रक डॉ कुमावत व उनकी टीम ने परीक्षा तैयारी को बुधवार को अंतिम रूप दिया। परीक्षा केंद्रों पर बैठक व्यवस्था सोशल डिस्टेंसिंग के पालन के साथ की गई है। हर सत्र में परीक्षा से पहले और परीक्षा के बाद समुचित सैनिटाइजेशन किया जाएगा।
पहले 65 परीक्षा केंद्र बनाए गए थे लेकिन विज्ञान महाविद्यालय में विद्यार्थियों की अधिकता के कारण एक सेंटर बढ़ाकर 66 किया गया है। नया सेंटर सूरजपोल स्थित निंबार्क कॉलेज किया गया है।
आमतौर पर होने वाली तीन घण्टे की बजाय इस बार परीक्षा दो घण्टे की ही होगी। इसमे प्रश्न पत्र के तीन खण्ड में से केवल दो ही खण्ड हल करना है। आखरी ‘स’ खण्ड हल नहीं करना है। तीन पारियों में सुबह 8 से 10, 12 से 2 तथा 4 से 6 बजे परीक्षा होगी। विद्यार्थियों को निर्धारित समय से आधे घण्टे पहले केंद्र पर पहुंचना होगा। सभी की थर्मल स्केनिंग और सेनिटाइजेशन होगा। सभी को अपने साथ मास्क, पीने का पानी और अपनी व्यक्तिगत सेनिटाइजर बोतल भी साथ लाने के निर्देश दिया गया है।
परीक्षा के लिए दो नियंत्रण कक्ष :
परीक्षाओं के लिए दो कंट्रोल रूम बनाए गए हैं। परीक्षा कंट्रोल रूम का नंबर 2470 749 होगा जबकि सिक्रेसी कंट्रोल रूम का नम्बर 24710 10 और 2471 372 रहेगा। उक्त नंबरों पर सुबह 7 से शाम 7 बजे तक किसी भी समस्या के समाधान के लिए फोन किया जा सकेगा।
अस्वस्थ विद्यार्थी की बाद में होगी परीक्षा : यदि कोई विद्यार्थी अस्वस्थ हुआ तो उसे परीक्षा केंद्र में प्रवेश नहीं मिलेगा। ऐसे विद्यार्थियों के लिए बाद में अलग से परीक्षा लेने की व्यवस्था की जाएगी। ऐसे विद्यार्थी जो किसी कंटेनमेंट जोन में है और परीक्षा केंद्र पर नहीं पहुंच पा रहे हैं उनके लिए भी बाद मे अलग से परीक्षा की व्यवस्था रहेगी।