राजसमंद, चेतना भाट । आगामी 11 अक्टूबर तक सम्पूर्ण जिले में राष्ट्रीय कृमि मुक्ति दिवस का आयोजन किया जाएगा। जिसमें जिले के 1 से 19 वर्ष तक के सभी बच्चो एवं किशोर-किशोरियों को कृमिनाशक दवा सभी आंगनबाड़ी केन्द्रों, उपस्वास्थ्य केन्द्रों एवं शहरी क्षैत्र में अरबन पीएचसी पर आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं एवं एएनएम द्वारा खिलाई जा रही है। अभियान के गांव स्तर पर संचालन को लेकर सीएमएचओ डॉ. जेपी बुनकर ने आमेट ब्लॉक से उपस्वास्थ्य केन्द्र जैतपुरा एवं सैंगनवास का औचक निरीक्षण कर आवश्यक दिशा-निर्देश दिए। उन्होंने स्वास्थ्य कार्यकर्ता को आशा के माध्यम से गांव में 1 से 19 वर्ष के सभी बच्चों को मोबिलाईज कर उपस्वास्थ्य केन्द्र एवं आंगनबाड़ी केन्द्र तक लाने के लिए निर्देशित किया। बच्चों में कृमि मुक्ति महत्वपूर्ण है क्योंकि कृमि के कारण बच्चों के शारीरिक विकास, हीमोग्लोबिन स्तर, पोषण और बौद्धिक विकास पर भी हानिकारक प्रभाव डालता है। निश्चित समय अंतराल पर कृमि मुक्त (डिवर्मिंग) करने से कृमि संक्रमण के फैलाव को रोका जा सकता है।

भगवांदा खुर्द आंगनवाड़ी केंद्र में कार्यक्रम का शुभारंभ

आंगनवाड़ी केंद्र भगवांदा खुर्द पर 11 अक्टूबर तक आयोजित होने वाले राष्ट्रीय कर्मी मुक्ति कार्यक्रम का शुभारंभ बाल विकास उपनिदेशक शांता मेघवाल के मुय आतिथ्य में हुआ। कार्यक्रम में महिला बाल विकास उपनिदेशक शांता मेघवाल ने 1 से 19 वर्ष तक की उम्र के बच्चों को डी-वार्मिंग की गोली देने के निर्देश दिए। इस दौरान केंद्र पर मौजूद करीब 55 बच्चों को डी-वार्मिंग की गोली खिलाई। इस अवसर पर शिला नकवाल, ज्योति रावत, ललिता यादव, फरीदा बानू, चुन्नी बाई आदि महिलाएं उपस्थित थी।