‌‌राजसमन्द। रात की हाड़कंपाती ठंड में जब सब लोग अपने घरों में सोरहे होते है, उसी ठंड में कुछ बेसहारा लोग खुले आसमान के नीचे बिना कोई मजबूत ओडने की व्यवस्था के सोते हुए ठंड से कांपतै रहते है। इसी बात का ख्याल आने पर देवगढ़ तहसील के गांव भुरवाड़ा निवासी समाज सेवी इंजीनियर सोहन गुर्जर , हाल निवासी उदयपुर रात को 10 बजे अपनी धर्मपत्नी विशाखा गुर्जर व ड्राइवर कमलेश यादव के साथ गाड़ी में कंबल लेकर सोते बेसहारा लोगों को ढूंढने व कंबल ओढ़ाने निकल पड़े। पूरे उदयपुर में रात के अंधेरे में सोते हुए बेसहारा लोगो को ढूंढ़ते हुए उनको कंबल ओढ़ाते गए। किसी को नींद में पता ही नहीं चला कि कोन कंबल ओडा गया तो किसी ने आंख खुलने पर आशीष दिया, तो किसी का दिमागी हालत सही नहीं होने से विरोध किया,लेकिन उनको भी प्रेम से समझाकर कंबल ओडाए।

उदयपुर के सुखाड़िया सर्किल, गांधी मैदान, पहाड़ी बस स्टैंड,चेतक सर्किल,महाराणा भूपाल हॉस्पिटल, कोर्ट चौराहा,दिल्ली गेट, सूरज पोल, उदिया पोल, रोडवेज बस स्टैंड,रेलवे स्टेशन, फतेहपुरा, आर के सर्किल व कुछ कच्ची बस्तियों में सोते हुए बेसहारा लोगो को कंबल ओढाए। ये समाज सेवी इस से पहले भी कई प्रकार के समाज सेवा के कार्य कर चुके है। इनके हर समाज सेवा के काम मे इनकी धर्मपत्नी विशाखा गुर्जर पूरा सहयोग करती है। इनको जरूरत मंद की सेवा करके सुकून मिलता है।