राजसमंद, चेतना भाट। शासनिक राव सखी सहेली समूह की ओर ग्राम पीपलांत्री में स्थापना बैठक का आयोजन किया गया। मुख्य अतिथि के रूप में सरपंच अनीता पालीवाल, पूर्व सरपंच श्यामसुंदर पालीवाल, एडवोकेट डॉ. भरतसिंह राव एवं डॉ. संगीता राव उपस्थित थे। अतिथियों ने आराध्य देव एकलिंगनाथ के समक्ष दीप प्रज्जवलित कर बैठक का शुभारंभ किया। इस दौरान अतिथियों द्वारा शासनिक राव सखी सहेलियां समूह के पोस्टर का अनावरण किया गया। संगीता सेवालिया ने समूह की कार्य योजना पर प्रकाश डाला। सुशीला कंवर राव देवाणा द्वारा अतिथियों एवं कार्यकारिणी सदस्यों का स्वागत किया। पूर्व सरपंच श्यामसुंदर पालीवाल ने पीपलांत्री मॉडल में महिलाओं की सहभागिता द्वारा विकास का वर्णन करते हुए समूह की पहली बैठक पीपलांत्री में करने के अवसर को हल्दीघाटी तपोभूमि के समान महत्वपूर्ण बताया। डॉ. भरतसिंह राव ने गांधी एवं विवेकानंद के जीवन दर्शन के माध्यम से उनकी सकारात्मक भूमिकाओं का उदाहरण देकर समूह के कार्यों का समाज पर पड़े प्रभाव, विचारों के परिवर्तन आदि से अवगत कराया। डॉ. संगीता राव ने समूह के कार्यों के प्रभाव को विस्तार से व्यक्त करते हुए समूह की सभी सदस्यों के सराहनीय प्रयासों के लिए आभार जताया। कार्यक्रम का संचालन करते हुए सुमन मालावत ने बताया कि शिक्षा व समाज का विकास संगठन का मुख्य उद्देश्य है। जिस प्रकार पगड़ी, साफा हमारे सम्मान का प्रतीक है उसी प्रकार ओढऩी भी हमारे स्वाभिमान का प्रतीक है। इसे आगे बढ़ा देंगे किन्तु गिरने नहीं देंगे। अंत में भगवती कुंवर राव द्वार सभी का धन्यवाद ज्ञापित किया गया।