कोरोना जागृति स्लोगन फोल्डर का विमोचन
राजसमंद, चेतना भाट। आम जनता तक जन जागरूकता का संदेश संप्रेषित करने में साहित्य की स्लोगन विधा प्रभावी माध्यम हैं। कोरोना महामारी के बचाव को लेकर समुदाय को प्रेरित करने के लिए स्थानीय साहित्यकारों का यह नवाचार सराहनीय है। यह विचार जिला कलक्टर अरविंद कुमार पोसवाल ने गुरुवार को साहित्यिक संस्था साकेत साहित्य संस्थान द्वारा निर्मित मास्क स्लोगन फोल्डर का विमोचन करते हुए व्यक्त किए। संस्थान द्वारा मेरी सबसे अर्ज है, मास्क लगाना फर्ज हैं शीर्षक से विमोचित फोल्डर के अंक एसपी भुवन भूषण यादव एवं एसडीओ सुशील कुमार को भी भेंट किए। इस अवसर पर संस्थान जिलाध्यक्ष परितोष पालीवाल, जिला सचिव नारायणसिंह राव, अतिरिक्त जिला शिक्षा अधिकारी शिवकुमार व्यास, जिला स्वीप कॉर्डिनेटर रामप्रकाश शर्मा, जिला स्वीप टीम सदस्य रूपेश पालीवाल, राधेश्याम राणा, साहित्यकार छगनलाल प्रजापत, पूरण शर्मा, रामगोपाल आचार्य, बख्तावरसिंह चुण्डावत, यशवंत शर्मा आदि उपस्थित थे।

तेरापंथ सभा की चरित्र दर्शन यात्रा सम्पन्न


राजसमंद। तेरापंथ सभा चारभुजा द्वारा आयोजित चरित्र दर्शन यात्रा का शुभारंभ महाश्रमण विहार से समाज के वरिष्ठ देवीलाल चोरडिय़ा के नेतृत्व में प्रारंभ हुई। यात्रा संयोजक संपतलाल सिंघवी ने बताया कि जिले में विराजित साधु संतों के दर्शन के उद्देश्य से देवगढ़, आमेट, केलवा, बोरज एवं राजनगर में विराजित चरित्र आत्माओं के दर्शन एवं सेवा भाव का सामूहिक लाभ लिया। समाज द्वारा आयोजित यात्रा के प्रारंभ में देवगढ़ में विराजित शासन साध्वी जसवंत आदि थाणा के दर्शन करके, आमेट में चातुर्मास कर रही साध्वी जिन बाला आदि थाणा एवं केलवा में विराजित साध्वी संपूर्ण यशा के दर्शन करके मंगल पाठ की स्तुति की। समाज के मांगीलाल सिंघवी, प्रकाश चंद्र सिंघवी, महिला मंडल की मीना पटवारी, मीना चैरडिय़ा, कांता देवी सिंघवी, मीना सिंघवी, फूलचंद चोरडिया आदि मौजूद थे। यात्रा के दूसरे चरण में बोरज गांव में साध्वी कंचन प्रभा के दर्शन किए। साध्वी ने इस मौके पर कहा कि कोरोना काल के दौरान भी तेरापंथ धर्म संघ के सभी साधु संत अपने-अपने चातुर्मास स्थान पर विराजित होकर धर्म जोत को जागृत करते हुए जन-जन तक समाज की प्रेरणा के प्रतीक बने। इस मौके पर साध्वी प्रिया दर्शन ने जीवन के शरीर के विभिन्न अंगों को अंगीकार करते हुए गीत प्रस्तुत किया। बोराज में आयोजित सभा के दौरान सभा अध्यक्ष ललित चोरडिय़ा ने चारित्र दर्शन यात्रा के बारे में जानकारी दी। महिला मंडल की सुशीला पटवारी ने स्वागत किया। यात्रा के अंतिम चरण में राजनगर में विराजित साध्वी गुणमाला के दर्शन कर के मंगल पाठ सुनाए। इस अवसर पर साध्वी गुणमाला ने कहा कि कोरोना महामारी के दौरान सावधानीपूर्वक सामायिक एवं जप-तप करने से इस रोग से मुक्ति का रामबाण उपाय है। साध्वी प्रेक्षा प्रज्ञा ने कविता के माध्यम से वर्तमान परिस्थितियों पर अपनी भाव विभक्ति प्रस्तुत की। यात्रा के दौरान सभी स्थानों पर स्थानीय समाज के पदाधिकारियों ने चरित्र दर्शन यात्रा की पहल को बेहतर उदाहरण बताया।