जिले भर से आए लोगों ने किरण को दी श्रद्धांजलि देकर व्यक्त की संवेदना
राजसमंद, चेतना भाट। पूर्व मंत्री, राजसमन्द विधायक एवं भाजपा की कद्दावर नेता किरण माहेश्वरी के निधन पर शुक्रवार को यहां सौ फिट रोड़ स्थित आवास पर आयोजित श्रद्धांजलि कार्यक्रम में जिले भर से पहुंचे कार्यकर्ताओं एवं आमजन ने दिवंगत को श्रद्धांजलि देकर शोक संवेदना व्यक्त की। श्रद्धांजलि कार्यक्रम में समूचे विधानसभा क्षेत्र के विभिन्न गांवों एवं ढाणियों से पार्टी कार्यकर्ताओं के अलावा आमजन भी पहुंचे एवं अपनी नेता की चित्र छवि पर पुष्प अर्पित कर नमन किया। कार्यक्रम में सुबह से ही लोगों का आना शुरू हो गया था जो दोपहर बाद तक लगातार जारी रहा। बड़ी संख्या में महिलाएं भी आई जो श्रद्धांजलि देते समय काफी भावुक हो गई थी। इस दौरान शहर एवं ग्रामीण अंचल से लोगों की टोलियों के पहुंचने एवं श्रद्धासुमन अर्पित करने का क्रम पूरे समय जारी रहा। साथ ही जिले भर से कई भाजपा पदाधिकारी, कार्यकर्ता एवं जनप्रतिनिधि भी श्रद्धांजलि सभा में शामिल हुए। इसके अलावा विभिन्न राजनीतिक दलों, सामाजिक, धार्मिक, व्यापारिक व स्वयंसेवी संगठनों, संस्थाओं के प्रतिनिधियों एवं उद्योग जगत से जुड़े लोगों ने भी पहुंच कर दिवंगत को श्रद्धांजलि दी। सभी ने विधायक किरण के पति सत्यनारायण माहेश्वरी, पुत्र प्रशांत माहेश्वरी, दामाद शशांक सिंघवी, विवि पूर्व कुलपति कैलाश सोढ़ानी सहित परिवारजनों से मिलकर गहरी संवेदना व्यक्त की। प्रदेश के वरिष्ठ भाजपा नेता एवं पूर्व मंत्री अरूण चतुर्वेदी भी श्रद्धांजलि सभा में शिरकत करने के लिए दोपहर बाद यहां पहुंचे। उन्होंने विधायक किरण की चित्रछवि पर पुष्पांजलि अर्पित कर नमन किया। वे विधायक किरण के पति डॉ सत्यनारायण माहेश्वरी, पुत्र प्रशांत सहित परिवारजनों से मिले एवं अपनी संवेदना व्यक्त कर उन्हें सांत्वना दी। इस दौरान चतुर्वेदी ने मंत्री मण्डल सदस्य के रूप में सहयोगी रही किरण से जुड़े संस्मरण साझा किए एवं कहा कि अपने कार्य के प्रति दृढ़ताए विकास के लिए ललक एवं हर दृष्टि से सजगता उनकी खासियत थी। वे सत्ता से लेकर संगठन तक के छोटे-बड़े हर कार्य एवं अपने दायित्व को पूरी संजीदगी से निभाती थी तथा उनकी यह कार्यशैली दूसरों को भी प्रेरणा देती थी। इस अवसर पर भाजपा जिलाध्यक्ष वीरेन्द्र पुरोहित, उपाध्यक्ष महेश आचार्य, नगर परिषद सभापति सुरेश पालीवाल, पूर्व भाजपा जिलाध्यक्ष भवंरलाल शर्मा, पूर्व प्रधान भानू पालीवाल, पूर्व जिला महामंत्री सत्यनारायण पूर्बिया, पूर्व पालिकाध्यक्ष अशोक रांका, पूर्व उप प्रधान दिनेश बड़ाला, गणेशदास वैष्णव, महेन्द्र कोठारी, सत्यप्रकाश काबरा, नगर महामंत्री गिरीराज कुमावत, किशोर गुर्जर आदि उपस्थित थे। इससे पहले भाजपा प्रदेश कोषाध्यक्ष रामकुमार भूतड़ा ने भी पहुंचकर श्रद्धांजलि अर्पित की। इधर, पूर्व जिला प्रमुख नारायणसिंह भाटी, भीलवाड़ा डीटीओ वीरेन्द्रसिंह राठौड़, समाजसेवी तनसुख बोहरा, नरेन्द्र बोहरा केलवा, पूर्व भाजपा जिलाध्यक्ष भंवरलाल शर्मा व प्रतापसिंह मेहता, पार्षद ब्रजेश पालीवाल, देवगढ़ पूर्व पालिकाध्यक्ष शोभालाल रेगर आदि भी पहुंचे एवं विधायक को श्रद्धांजलि दी।

राजसमंद। विधायक किरण के परिवारजनों से मिलकर संवेदना व्यक्त करते पूर्व मंत्री अरूण चतुर्वेदी व श्रद्धांजलि देते कुमावत समाज के पदाधिकारी।

कुमावत समाज ने दी विधायक माहेश्वरी को श्रद्धांजलि

कुमावत समाज रुणपछोर चौकी संस्थान की ओर से पूर्व मंत्री एवं विधायक किरण माहेश्वरी को श्रद्धांजलि अर्पित की गई। मिडिया प्रभारी अशोक कुमावत ने बताया कि कुमावत सभा भवन मे श्रद्धांजलि कार्यक्रम आयोजित किया गया। कार्यक्रम में समाज अध्यक्ष सुंदरलाल दौराया, डूंगरराम गेदर, बाबूलाल पालडिय़ा सहित प्रबुद्धजनों ने माहेश्वरी के चित्र पर पुष्प अर्पित कर भावभीनी श्रद्धांजलि दी। डूंगरराम गेदर ने कहा राजसमंद कि जनता ने एक अच्छी नेत्री को खोया है, इसकी भरपाई कभी नहीं हो सकती हैं। श्रद्धांजलि सभा में मंत्री नारायण लाल पडियार, कोषाध्यक्ष भेरुलाल पालडिया, भूरालाल मरमट, नाथूलाल धनारीया, पूर्व पार्षद हिम्मत कुमावत, पार्षद खुशकमल कुमावत, मोहन कुमावत, भूरालाल साबलिया, किशन डूंगरवाल, मांगीलाल साडिवाल, गिरिराज खनाडिया, नारायणलाल सिदड़, भानु धनारीया, मोहन खनाडिया, बालूराम आदि समाजबंधु उपस्थित थे।

विधायक को दी श्रद्धांजलि

खमनोर : राजसमंद विधायक किरण माहेश्वरी के निधन पर शुक्रवार को खमनोर में भाजपा कार्यकर्ताओं ने श्रद्धांजलि सभा का आयोजन किया गया। जिसमें कार्यकर्ताओं ने किरण माहेश्वरी की छवि पर पुष्पांजलि कर 2 मिनिट का मौन रखकर भावभीनी श्रद्धांजलि दी। इस दौरान ग्रामीण मंडल अध्यक्ष कैलाश श्रीमाली, महामंत्री विनोद पालीवाल, राजेन्द्र श्रीमाली, नवनीत पालीवाल, संदीप श्रीमाली, रमेश माली, सुंदर माली, कमलेश पुरोहित, जगदीश माली, शांतिलाल वागरेचा, कैलाश सोनी आदि मौजूद थे।