खमनोर। जब मन में कुछ कर गुजरने का सपना होता है तो समय जरूर लगता है। लेकिन वह सपना जरूर पूरा होता है। ऐसी ही कुछ कहानी शिशोदा सरपंच सज्जनसिंह ओढा की है। सरपंच ने पांच साल पहले एक मन में कुछ ऐसा ही विचार बना कि अपने गांव में भी एक छोटी नर्सरी हो और लोगों को पौधे खरीदने के लिए अन्यत्र जगह नहीं जाना पड़े। उसी समय से सरपंच ने अपने गांव मे एक छोटी नर्सरी लगाने का मानस बना लिया। लेकिन परिस्थिति कुछ इस तरह बनी की पूर्व सरपंच कार्यकाल में नर्सरी का काम नहीं हो पाया। नर्सरी के लिए पर्याप्त जगह भी नही मिल पाई थी। हाल ही में ही कोरोना महामारी में विधानसभा अध्यक्ष डॉ. सीपी जोशी द्वारा सभी ग्राम पंचायतों में पात्र लोगों को खाद्य सामग्री के किट वितरण किए। उसी के दौरान सरपंच सज्जन सिंह ओढा की विधानसभा अध्यक्ष डॉ. सीपी जोशी से रूबरू हुई बात में अपनी मन की बात रखी। इस पर डॉ. जोशी ने तुरंत सेंशन निकलवा कर ग्राम पंचायत में पड़ी 32 बीघा बिलानाम जमीन को नर्सरी के लिए आवंटित कर दिया। जमीन पूरी पहाड़ी क्षेत्र में थी और उस पास गांव के लोगों ने कब्जा कर रखा था। सरपंच द्वारा बिलानाम जमीन से लोगों के कब्जे को हटवाकर नरेगा में 25 मजदूरों को लगाकर चारों तरह पक्की चार दीवारी बनाकर पूरी तरह से नर्सरी को पैक करवा दिया। सरपंच ने बताया कि शरूआत में ग्रामीणों से काफी संघर्ष करना पड़ा। लेकिन धीरे-धीरे ग्रामीण भी इस मुहिम में सरपंच के साथ जुड़ गए। पौधारोपण के लिए 32 क्यारियों का निर्माण करवाया गया। शुरूआत में नर्सरी में 2 माह में करीब 50 हजार फलदार अनार, पपीता, आम एवं अन्य 20 प्रकार के पौधे लगाए गए। प्रतिवर्ष इस नर्सरी में डेढ़ लाख पौधे लगाने का एक लक्ष्य बनाया।गाव में एक छोटी नर्सरी लगाने के पीछे यही उद्देश्य था कि आस पास के किसानों को वृक्षों के लिए अन्यत्र नहीं जाना पड़े। शिशोदा गांव से मात्र सौ मीटर दूर नर्सरी में बच्चों के खेलने के लिए झूले, गार्डन व ग्राम वासियों के लिए एक तरह का पिकनिक पाईंट भी विकसित किया जाएग। करीब 2 माह में नर्सरी का कार्य पूरा हो जाएगा।

पंचायत की बैठक में छह करोड के विकास कार्यों के लिए प्रस्ताव


राजसमंद, चेतना भाट। कुंवारिया समीपवर्ती झौर ग्राम पंचायत परिसर में शुक्रवार को सरकारी गाईड लाईन के अनुपालना करते हुए ग्राम सभा की बैठक सरंपच दुर्गाकुंवर चौहान की अध्यक्षता में आयोजित हुई। जिसमे ग्राम पंचायत क्षैत्र के विकास की योजना तेयार करते हुए छ: करोड के विकास कार्यो के प्रस्ताव लिए गए। बैठक में झौर ग्राम पंचायत के सभी गांवो के विकास की योजना तैयार करके उनके अनुरूप ही एसएफसी, टीएफसी, मगरा विकास, एमएलए, एमपी, मांडा आदि फंड व योजनाओं के तहत वित्तिय सुविधा जुटाकर करीब छ: करोड के प्रस्ताव लिए गए। ग्राम सभा में नरेगा में भी विभिन्न विकास कार्यों की योजना बनाई गई विशेषकर चारागाह का विकास, मोक्षधाम परिसर का विकास एवं उन्नत खेल मैदान का विकास करने मुख्य रूप से कार्ययोजना गई।बैठक में उपसरपंच शिवचरणसिंह चौहान, वार्ड पंच हीरानाथ, टीना शर्मा, शिवलाल जाट, ग्राम विकास अधिकारी जयदीपसिंह, सहायक सचिव रतनलाल, पंचायत सहायक बद्रीलाल जाट, मनीराम शर्मा, जयसिंह जाट सहित ग्रामीण उपस्थित थे।
पुस्तकालय भवन को किया सुपुर्द
बैठक में गौतम सेवा संस्थान के सचिव मनीराम एवं अन्य गणमान्य लोगों की उपस्थिति में ग्राम पंचायत द्वारा मुरडा चौराहा पर नवनिर्मित पुस्तकालय के भवन को रखरखाव, संचालन, उपयोग व उपभोग के लिए संस्थान को सुपुर्द किया गया। उक्त भवन की संपूर्ण देखभाल संस्थान करेगा।