राजसमंद, चेतना भाट। विश्व एड्स दिवस पर सामाजिक संस्था परमार्थ सेवा संस्थान की ओर से मंगलवार को कार्यशाला का आयोजन किया गया। कार्यशाला के प्रथम सत्र में संस्थान अध्यक्ष डिम्पल लक्ष्मण गुर्जर ने महामारी से आमजन के जीवन पर पडऩे वाले दुष्प्रभाव तथा उनसे बचने के उपाय पर प्रकाश डाला। द्वितीय सत्र में पर्यावरणविद शिक्षक कैलाश सामोता ने कहा कि आज सम्पूर्ण विश्व कोरोना वायरस के कहर से जंूझ रहा है। हर देश एंटी कोरोना वायरस की तलाश में लगा हुआ है। इससे पूर्व एचआईवी वायरस एड्स लाईलाज बीमारी का रूप ले चुका है। उन्होंने एड्स के संक्रमण की जानकारी देते हुए बताया कि एडï्स असुरक्षित यौन सम्बन्ध, संक्रमित सुई आदि से फैलता है। एचआईवी संक्रमित व्यक्ति का शरीर में रोग प्रतिरोधक क्षमता कम हो जाती है। पिछले एक दशक में भारत में एचआईवी एड्स के नए संक्रमण के मामलों में करीब 70 फीसदी की कमी आई है। एड्स के प्रति जागरूकता और सावधानी ही बचाव है। इस अवसर पर लक्ष्मण गुर्जर, उपेंद्र नाथ, दिनेश कुमार सहित संस्थान के कार्यकर्ता उपस्थित थे।