• – गिरोह के 4 और आरोपी गिरफ्तार
    – पुलिस द्वारा पूर्व में मास्टर माईंड सहित 6 आरोपी गिरफ्तार
    राजसमंद, चेतना भाट
    । करीब दो माह पूर्व 31 अगस्त को राजनगर पुलिस द्वारा विभिन्न कंपनियों के नाम से फर्जी पोलिसी दिलाकर करोड़ों की ठगी करने के मामले में पुलिस द्वारा पूर्व में गिरोह के मास्ट माईड सहित 6 लोगों को गिरफ्तार किया। इसके बाद जिला पुलिस अधीक्षक के मार्गदर्शन में पुलिस ने मामले की लगातार छानबीन जारी रखते हुए शनिवार को गिरोह के 4 और आरोपियों को दिल्ली से गिरफ्तार करने में सफलता हासिल की है। पुलिस ने पूर्व मं गिरफ्तार आरोपियों से की गई पूछताछ में इस ठगी में अपने अन्य और साथियों के भी शामिल होना स्वीकार किया। इस पर पुलिस ने पुन: टीम का गठन कर ठगी में शामिल अन्य आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए दिल्ली भेजा गया। जहां पर पुलिस ने गहनता से छानबीन करते हुए ठगी में शामिल 4 आरोपी मेरठ युपी हाल चौहान बांगर थाना जाफराबाद सिलमपुर दिल्ली निवासी अब्दुल रेहमान (54) पिता बुन्दु सलमानी, यूपी गोजियाबाद लोनी खानपुर निवासी सचिन बंसल उर्फ विक्की उर्फ संजय सिंगानिया (26) पिता दयाचंद बंसल गुर्जर, अनारकली बालाजी मंदिर के पास जगतपुरी दिल्ली निवासी गगनसिंह (31) पिता सुखबीरसिंह जाट, युपी गाजियाबाद जिला लोनी अंकुर विहार निवासी दीपक शर्मा उर्फ आरके सुब्रहण्यम (25) पिता अमृत शर्मा को पुछताछ के लिए डिटेन कर दिल्ली से राजनगर थाना लाया गया। यहां पुलिस द्वारा पूछताछ करने पर चारों आरोपियों ने ठगी में शामिल होना स्वीकार किया। पुलिस द्वारा सभी आरोपियों को 16 अक्टूबर तक अभिरक्षा में रखते हुए पूछताछ की जा रही है। जिसमें ठगी के और भी कई मामलों के खुलासा होने की संभावना है।
  • यह था मामला

  • ज्ञांतव्य है कि गिरोह के शातिर आरोपियों ने राजनगर कबूतर खाना निवासी नरेन्द्र प्रकाश (58) पुत्र नवरत्नमल जैन को अलग-अलग नम्बरों से फोन करके झांसा देकर पोलिसी ऐजेंट बनाया। इसके बाद नरेन्द्र प्रकाश ने कई लोगों की बीमा पोलिसी कर गिरोह के ठगों के खातों में करीब 85 लाख रुपए जमा करा दिए। इसके बाद आरोपियों द्वारा और दस लाख रुपए की मांग करने पर धोखाधड़ी का पता चलने पर पीडि़त ने राजनगर थाने में मामला दर्ज करवाया। मामले की गंभीरता को देखते हुए जिला पुलिस अधीक्षक भुवन भूषण यादव एवं एएसपी राजेश गुप्ता के निर्देशन में पुलिस उपाधीक्षक गोपालसिंह भाटी के सुपरविजन व प्रशिक्षु आरपीएस नोपाराम, राजनगर थानाधिकारी प्रवीण टांक के नेतृत्व में टीमे गठीत कर दिल्ली रवाना किया गया। टीम ने दिल्ली से गिरोह के मास्टर माईंड मोहम्मद जावेद (31) पिता मोहम्मद मुबीन अंसारी सहित 6 लोगों को गिरफ्तार कर राजनगर थाना ले आई। पूछताछ के दौरान गिरफ्तार आरोपियों ने पूरे खेल का खुलासा करते हुए इसमें अपने अन्य और साथियों के होने की जानकारी दी। इस पर पुलिस ने पुन: टीम का गठन कर दिल्ली से ठगी में शामिल चार और शातिर आरोपियों को गिरफ्तार कर राजनगर थाना लाया गया।
  • यूं करते थे धोखाधड़ी

  • मास्टर माईण्ड रिजनल हैड हैक्सर इंश्योरेंस प्राईवेट लिमिटेड बी 41-2 फ्लोर सेक्टर 63 नोयडा दिल्ली निवासी गगनसिंह द्वारा विभिन्न इंशोरेंस पोलिसियों के डाटा को अपनी टीम के साथियों दीपक शर्मा, सचिन बंसल, भरत आदि को उपलब्ध करवाकर पोलिसियों का बोनस दिलवाने का झांसा देकर पोलिसी धारकों को कई फर्जी मोबाईल सिम कार्ड से अलग-अलग व्यक्ति बनकर कोल करते थे तथा पोलिसी धारकों से पोलिसी का बोनस दिलाने के नाम पर मोटी रकम वसुल कर धोखाधड़ी का कार्य करते थे।
  • ये हुए आरोपियों के ठगी का शिकार

  • गिरोह के आरोपियों द्वारा विभिन्न कंपनियों के नाम से बीमा पोलिसी से ठगी करते हुए कई लोगों को अपना शिकार बनाते हुए करोड़ों रुपयों की ठगी को अंजाम दिया। गिरोह के अरोपियों ने धोखाधड़ी करके पंजाब निवासी सन्त नाम के व्यक्ति 5 लाख रूपए, पुणे निवासी ज्ञानचनद शर्मा से 3 लाख रूपए, पुणे निवासी रहाड़े से 60 हजार रूपए, युपी निवासी विजयसिंह से 3 लाख रूपए, सुरेन्द्र कुमार से 1 लाख 20 हजार रूपए, पुणे निवासी ब्रजमोहन से 60 हजार रूपये, महेश कुमार से 80 हजार रूपए, झारखंड निसाी केवीएस प्रसाद से 50 हजार रूपए पोलिसी के नाम से धोखाधड़ी करना स्वीकार किया।