राजसमंद, चेतना भाट। श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र न्यास ने बुधवार दोपहर न्यास कार्यालय पर राम मंदिर निर्माण महा अभीयान समिति की बैठक मंहत चेतननाथ महाराज वणाई के सानिध्य में हुई। बैठक में चित्तौड़ प्रांत के अभियान प्रमुख और विश्व हिन्दू परिषद के प्रांत मंत्री कौशल गौड़ ने अब तक के हुए कार्यों को लेकर समीक्षा की गई। साथ ही कार्यक्रम में विहिप प्रांत अध्यक्ष और आरएसएस के विभाग संघचालक फतहचंद सामसुखा, जिला संघचालक मीठालाल शर्मा, विभाग निधि प्रमुख हरकचंद मंत्री व महाअभियान के जिला प्रमुख गिरीराज श्रीमाली ने फोल्डर विमोचन भी किया। महाअभियान के प्रांत प्रमुख कौशल गौड़ ने बताया कि श्री राम मंदिर निर्माण महाअभियान में जिले के 11 हजार कार्यकर्ताओं की 606 टोलियों का निर्माण कर जिले के 529 गांवों में 14-14 दिन के दो चरण में प्रत्येक हिन्दू के घर जाकर समर्पण राशि लेगें। साथ ही हर हिन्दू को मंदिर निर्माण का इतिहास बताया जाएगा। जिसमें राम मंदिर निर्माण के लिए 492 सालों में 76 बार लाखों लोगों ने प्रयास किया तब जाकर यह संयोग आया कि मंदिर निर्माण यह पीढ़ी देख सकेगी। विभिन्न संगठनों ने राम जानकी रथ यात्रा, राम ज्योति यात्रा और शिला पुजन यात्रा निकाल कर देश के तीन लाख गांवों से साढ़े 8 करोड़ रुपए एकत्रित किए थे जिससे इतने सालों तक पत्थर निकाली का कार्य चला। साथ ही यह राशि बैंक में पड़ी होने के कारण 11 करोड़ रुपए बनी जो श्रीराम जन्मभूमि ट्रस्ट को सौंपी। वहीं मंदिर निर्माण के तरासे गए पत्थरों को भी सौंपा। इसके अलावा विहिप के आह्वान पर 1990 में कार सेवा हुई जिसमें गोलियां चलाने के बाद भी लाखों कार्यकर्ता मौजूद रहे। सरकार से वार्ता हुई वार्ता असफल होने पर 1992 में लाखों कार सवकों ने मात्र कुछ घंटों में विवादित ढ़ांचे को ढहाया था। प्रकरण न्यायालय पहुंचा जहां निरंतर सुनवाई करते हुए 8 नवंबर 2019 को देश उच्चतम न्यायालय ने फैसला सुनाया और श्रीराम जन्मभूमि पर मंदिर निर्माण का रास्ता साफ हुआ। 5 अगस्त 2020 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंदिर का भूमि पूजन कर निर्माण कार्य प्रारंभ किया। संचालन पुष्पेन्द्र पणिक्कर ने किया।

राम वनवास की भांति 14 दिन का करेगें गृह त्याग

श्री राम मंदिर निर्माण निधि संग्रहण महाअभियान दो चरणों में पुरा होगा। ट्रस्ट के कार्यकर्ता जिस प्रकार राम का 14 वर्ष वनवास हुआ उसी प्रकार 14.14 दिन के दो चरणों में 11 हजार कार्यकर्ता गृह त्याग कर गांवों में जाएगें और प्रत्येक हिन्दू घर से समर्पण राशि लेकर 24 घंटों में ट्रस्ट के बैंक खाते में डलवाए जाएगें। प्रथम चरण 15 जनवरी से 30 जनवरी तक बड़ी निधि का समर्पण लिया जाएगा और दुसरे चरण में 31 जनवरी से 15 फरवरी तक प्रत्येक हिन्दू परिवार के पास जाकर 10, 100 व एक हजार रुपए का कुपन काटकर समर्पण राशि ली जाएगी। इसकेअलावा दो हजार से अधिक धन राशि का समर्पण करने वाले को रसीद दी जाएगी।
फोटो राज पीएच 1
राजसमंद। राम मंदिर निर्माण महा अभीयान समिति के फोल्डर विमोचन का विमोचन करते पदाधिकारी।