राजसमंद, चेतना भाट। एबीवीपी की ओर से 12 जनवरी विवेकानंद जयंती को युवा दिवस के रूप में मनाने का निर्णय लिया गया है। जिला संयोजक किशन गुर्जर ने बताया कि जिले की प्रत्येक इकाई पर कार्यक्रम को लेकर जिला टोली से प्रभारी नियुक्त किए गए है। प्रभारी को अपने इकाई केंद्र की युवा दिवस की रचना बनाने की जिमेदारी दी गयी है। गुर्जर ने बताया कि राजनगर इकाई प्रभारी ललित खिंची, कांकरोली इकाई प्रभारी पूजा पालीवाल, साक्षी श्रीमाली, धोइन्दा इकाई प्रभारी पूर्बिया, अल्पना सोनी, केलवा इकाई प्रभारी देवेश पालीवाल, ललित कुमावत, आमेट इकाई प्रभारी नीलेश पालीवाल, गोपाल कुमावत, देवगढ़ इकाई प्रभारी किशन गुर्जर, गुंजन शर्मा, रेलमगरा इकाई प्रभारी जयेश पालीवाल, निखिल सोनी, केलवाड़ा इकाई प्रभारी भगवत सिंह चारण, विक्रम सिंह, नाथद्वारा इकाई प्रभारी कन्हैया लाल कुमावत, गणपत सिंह को प्रभारी बनाया गया है।

नवनिर्मित तेरापंथ सभा भवन का नाम महाश्रमण विहार रखने की हुई स्वीकृति

राजसमंद। चारभुजा में नवनिर्मित तेरापंथ सभा भवन का नाम महाश्रमण विहार रखने की स्वीकृति मिल जाने पर समाज जनों ने खुशी के साथ आचार्य के प्रति कृतज्ञता व्यक्त की। चारभुजा तेरापंथ सभा भवन के अध्यक्ष ललित चोरडिय़ा ने बताया कि नामकरण के लिए तेरापंथ सभा द्वारा प्रस्ताव भेजा गया था जिसे मंजूरी मिल गई। तेरापंथ महासभा कोलकाता द्वारा चारभुजा में नवनिर्मित पवन का नाम महाश्रमण बिहार रखने की स्वीकृति विधान व नियमों के अंतर्गत दी जाती है। स्वीकृति के साथ ही इस महाश्रमण बिहार में धार्मिक व सामाजिक गतिविधियां प्रारंभ हो गई है। भवन निर्माण में विशेष सहयोग देने वाले मुंबई में कार्यरत प्रवासी समाजनो मैं चारभुजा मित्र मंडल के पूर्व अध्यक्ष पारसमल पटवारी, रोशन लाल चोरडिया, पूर्व मंत्री पारसमल सिंह, वर्तमान अध्यक्ष सुभाष सिंघवी, मंत्री रमेश हिंगड़ वरिष्ठ जनों का समाज द्वारा सम्मान किया जाएगा।

धूमधाम से मना जलेबी उत्सव

राजसमंद। पुष्टिमार्गीय तृतीय पीठ प्रन्यास द्वारिकाधीश मंदिर में गुरुवार को गुसाई विलनाथजी का 506वां प्राकट्य उत्सव जलेबी उत्सव बड़े ही हर्ष और उल्लास के साथ मनाया गया। इस मौके पर श्रंगार में प्रभुश्री द्वारकाधीश को श्री मस्तक पर बड़े साज की केसरी कुले जिस पर 13 चंद्रिका का सादा जोड़ एपीला उरतू का सादा चाक दार वागा एवैसी सुथन, वैसे ही मौजा जी, लाल कटी का पटका, हीरा पन्ना के 3 जोड़ी के श्रंगार, लाल रेशमी ठाड़े वस्त्र, चरण चौकी तक माला, गदल धराई गई। इसके बाद राजभोग दर्शन से पूर्व द्वारकेश गार्ड सुरक्षा अधिकारी भंवर सिंह के नेतृत्व में द्वारकाधीश मंदिर बैंड के साथ विल विलास बाग से परेड करते हुए गोवर्धन चौक पहुंचे। यहां गोस्वामी परिवार द्वारा सलामी ली गई। राजभोग के दर्शन में मंदिर पुरोहित पंडित बिंदु लाल शर्मा द्वारा पंचांग का वाचन किया गया। जलेबी उत्सव के तहत प्रभुश्री द्वारकाधीश को विशेष जलेबी का भोग लगाया गया। वहीं शयन के दर्शन जोकि प्रबोधिनी एकादशी से बसंत पंचमी तक बंद रहते हैं आमजन के लिए खोले गए। द्वारकाधीश मंदिर के कमल चौक में नगाड़े बजाए गए तथा कीर्तनकार प्रमोद सिंह चारण द्वारा प्रभु के सम्मुख बधाइयां के कीर्तनों का गान किया। दर्शनों को करने के लिए सैकड़ों श्रद्धालु द्वारकाधीश मंदिर पहुंचे जिन्हें कोरोना गाइडलाइन के अनुसार दर्शन करवाए गए।