राजसमंद, चेतना भाट। मार्बल गैगसा यूनिट के शेयर एवं ऋण राशि को फर्जीवाडा से कूट रचित दस्तावेज बनाकर धोखा धड़ी करने का एक मामला पुलिस थाना केलवा में शनिवार को दर्ज हुआ। प्राप्त जानकारी के अनुसार प्रार्थी श्री रत्नमणि मार्बल के निदेशक ललित पिता अर्जुनलाल चोरडिया निवासी द्वारिकानगर जिला पुलिस अधीक्षक भुवन भूषण यादव के सम्मुख पेश होकर एक परिवाद प्रस्तुत किया। परिवाद की जांच के लिए केलवा पुलिस थाने को सौंपी गई जिस पर अनुसंधान अधिकारी द्वारा जांच करने पर धोखाधड़ी का मामला मानते हुए कालूराम प्रजापत पिता भेरुलाल, बंशीलाल पिता भेरुलाल, हरीश प्रजापत पिता भेरुलाल, शांतिलाल पिता भेरुलाल के खिलाफ भादस की धारा 420, 406, 467, 468,120-बी में मामला दर्ज करके सहायक उप निरीक्षक जयसिंह रावत को अनुसंधान सौंपा गया है। थाना प्रभारी लालसिंह ने बताया कि एसपी के सम्मुख प्रस्तुत परिवाद की जांच बाद अपराध की श्रेणी में मामला आने पर मुकदमा दर्ज करके जांच की जा रही है। उन्होंने बताया कि प्रार्थी कि केलवा आमेट रोड़ पर मार्बल गैंगसा यूनिट होकर अभियुक्त गणों को शेयर विक्रय किए थे जिस पर उन्होंने शेयरों एवं उनकी जमा ऋण राशि को बिना लौटाया बुक में सारी राशि को उड़ाने के लिए 2013, 2014 एवं 2015 की बैलेंस शीट्स दस्तावेज कूट रचित करके प्रार्थी एवं उनकी पत्नी के फर्जी हस्ताक्षर करके रजिस्ट्रार ऑफ कंपनी में जमा करा दी है। इस सब मामलों को लेकर अप्रैल 2015 में राजसमंद न्यायालय से शेयर स्थानांतरण पर स्थगन आदेश होने के उपरांत भी अभियुक्त गण कंपनी की एवं प्रार्थी की निजी संपत्ति को खुर्द बंद करने से बाज नहीं आ रहे हैं। परिवाद में यह भी बताया गया कि अभियुक्त गणों ने शेयर विक्रय इकरारनामा के विपरीत समस्त राशि नहीं दे कर कंपनी के शेयर अपने नाम करवा दिए जिसके खिलाफ न्यायालय द्वारा स्थगन आदेश दे रखा है। मामला अदालत में विचाराधीन होने के बावजूद अन्य निदेशक एचार्टर्ड अकाउंटेंट फर्म तथा आदि लोगों ने षडयंत्र पूर्वक प्रार्थी को गैंगसा युनिट से बेदखल करने का शड्यंत्र रचा। पुलिस ने माला दर्ज कर अनुसंधान प्रारंभ कर दयिा है।