राजसमंद, चेतना भाट। महात्मा गांधी नरेगा योजनान्तर्गत पूरा काम पूरा दाम विशेष अभियान को लेकर आयोजित आमुखीकरण कार्यशाला में मुख्य कार्यकारी अधिकारी निमिषा गुप्ता ने कहा कि राज्य में महात्मा गांधी नरेगा योजनान्तर्गत 15 फरवरी 2021 तक पूरा काम पूरा दाम विशेष अभियान चलाया जा रहा है। इसके तहत चयनित कार्यों पर 5-5 के समूह में कार्य विभाजन, कार्य के सही माप व कार्यस्थलों पर प्रशिक्षित मेट के नियोजन से मनरेगा श्रमिकों को मिलने वाली औसत मजदूरी में सुधार आया है। औसत मजदूरी दर में जिले का राज्य में द्वितीय स्थान है। उन्होंने कहा कि प्रथम पखवाड़े में जिले के चयनित 5-5 कार्यस्थलों पर औसत मजदुरी 211 रूपये आई है। गुप्ता ने अधिकारियों से कहा कि आगामी पखवाड़ों में सम्पूर्ण जिले में औसत मजदूरी दर 220 रूपये आए। जिले में किए गए नवाचार के तहत ग्राम पंचायत नमाना में निर्मित नर्सरी की राज्य भर में सराहना हुई है तथा अन्य स्वीकृत नर्सरी कार्यों में भी ग्राम पंचायत नमाना के तर्ज पर कार्य कर निजी आय बढ़ाने के प्रयास करें। इस अवसर पर बिडिओ भुवनेश्वरसिंह चौहान, नवलाराम चौधरी, बीएल विश्नोई, दलपतसिंह, रमेश मीणा, निता पारीक, लेखाधिकारी शिवकान्तसिंह गुर्जर, सहा लेखाधिकारी सत्यनारायण लड्ढा, वलि सत्यनारायण चौबीसा, सहायक कार्यक्रम अधिकारी राजकुमार बंजारा, एसबीएम जिला समन्वयक नानालाल सालवी, एमआईएस मेनेजर अभिषेक त्रिपाठी, प्रशिक्षण समन्वयक मंगला रॉय, पर्यवेक्षण समन्वयक शकुंतला सेन आदि उपस्थित थे।

राजसमंद। जिला परिषद सभागार में आयोजित कार्यशाला को सम्बोधित करती जिप सीईओ निमिषा गुप्ता एवं मौजूद अधिकारी। फोटो : प्रहलाद पालीवाल

ठोस एवं तरल कचरा प्रबन्धन की डीपीआर निर्माण एवं कार्य प्रारम्भ हो

स्वच्छ भारत मिशन ग्रामीण के तहत ठोस एवं तरल कचरा प्रबन्धन की डीपीआर निर्माण एवं कार्य प्रारम्भ राज्य के दिशा निर्देशानुसार हो। मुख्य कार्यकारी अधिकारी ने समस्त विकास अधिकारियों को निर्देश दिए कि 15 जनवरी तक 10 गांवों में डीपीआर तैयार करना एवं 5 गांवों में कार्य प्रारम्भ करना, 31 जनवरी तक 10 नए गांवों की और डीपीआर तैयार करना एवं 15 ग्रामों में कार्य प्रारम्भ करना, 15 फरवरी तक 10 नए गांवों का चयन कर डीपीआर तैयार करना एवं 25 ग्रामों में कार्य प्रारम्भ करना, 28 फरवरी तक प्रत्येक ब्लॉक में 35 ग्रामों में कार्य प्रारम्भ किया जाना है। इसके स्वच्छ भारत मिशन ग्रामीण शाखा से पृथक से कलेण्डर भी जारी किया जा रहा है उसके अनुसार कार्य सम्पादन किया जाए। अधिशाषी अभियन्ता अनिल सनाढ्य ने ग्रुप सिस्टम, मॉनिटरिंग माप प्रपत्र और समूहवार माप प्रपत्र, मेट पुस्तिका के तकनीकी पहलुओं पर तथा योजनान्तर्गत 10 पेरामीटर की प्रगति का पीपीटी के माध्यम से विस्तृत प्रस्तुतीकरण किया। उन्होंने श्रम बजट एवं जीआईएस प्लान वार्षिक कार्य योजना आदि समय पर तैयार करने के लिए कहां।