राजसमंद, चेतना भाट। हरिहर सेवा संस्थान की ओर से चांदकंवर रामपाल नवाल (विजयनगर) की स्मृति में मंगलवार को समीपवर्ती भील बस्ती देवथड़ी में मानवीय सेवा कार्य, पौष्टिक खुराक वितरण, फोलोअप उपचार एवं कोरोना जागरूकता वार्ता आदि कार्यक्रम आयोजित किए गए। संस्थान अध्यक्ष मंजूलता श्यामसुन्दर नवाल के सहयोग से आयोजित कार्यक्रम में बस्ती के जरूरतमंद 45 विद्यार्थियों सहित अन्य बच्चों को नए वस्त्र वितरित किए। साथ ही बच्चों व बड़ों सभी को संस्थान की ओर से पौष्टिक खुराक के पैकेट भी किए। डॉ. विजय कुमार खिलनानी ने कहा कि हम सभी एक-दूसरे के सुख-दुख में सहभागी बनें तथा प्रयास करें कि हमारे आसपास सभी लोग सुखी व खुशहाल रहें। इसके बाद पूर्व में उपचाररत रोगियों सहित सभी की जांच कर दवाईयां प्रदान की। कार्यकर्ता मुकेश साहू, मीनाक्षी भील, कृष्णा भील, राधा भील, माया भील, दीपिका भील एवं धर्मेन्द्र भील ने सहयोग किया। उपस्थित बस्तीवासियों ने डॉ. खिलनानी से ऐसे सेवा कार्य जारी रखने का निवेदन किया।

31 को मनाई जाएगी महर्षि वाल्मीकि की जयंती


राजसमंद, चेतना भाट। राजस्थान भील समाज विकास समिति जिला शाखा की ओर से 31 अक्टूबर को आदिकवि एवं रामायण के रचयिता महर्षि वाल्मीकि जयंती एवं रत्नाकर भील जयंती जिला मुख्यालय नेशनल हाईवे 8 समीप पलेवा भील मगरी स्थित भील समाज के एकलव्य सामुदायिक भवन परिसर में हर्षोल्लास से समारोह पूर्वक मनाई जाएगी। महासचिव गुलाबचंद भील ने बताया कि कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में विकास समिति प्रदेश उपसभापति गंगाराम भील होगे जबकि अध्यक्षता जिलाध्यक्ष मोहनलाल भील करेंगे। कार्यक्रम में राजसमंद सहित आमेट, भीम, देवगढ़, कुंभलगढ़, रेलमगरा, खमनोर, नाथद्वारा सहित जिले भर के समाजजन व पदाधिकारी भाग लेंगे। महर्षि वाल्मीकि का जन्म त्रेता युग में निषाद जाति में भगवान राम के काल में आश्विन माह की शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा यानी शरद पूर्णिमा के दिन कश्यप और अदिति के नौ वे पुत्र प्रचेता की सन्तान के रूप में हुआ था।