सांसद दीयाकुमारी ने मोदी सरकार और गडक़री का जताया आभार

राजसमंद, चेतना भाट। वर्षों पुरानी और बहुप्रतीक्षित ब्यावर गौमती फोरलेन परियोजना शुरू होने के पूर्व अपने अंतिम चरण में सफर कर रही है। पिछले दिनों ही सांसद दीया कुमारी के प्रयासों से केंद्र सरकार ने इस योजना को स्वीकृत करते हुए वित्तीय और प्रशासनिक स्वीकृतियां जारी की थी। उसी क्रम में गुरुवार को केंद्र सरकार ने टेंडर प्रक्रिया जारी करके यह सिद्ध कर दिया कि कोरोना जैसी आपदाएं भी विकास की गति को धीमा नहीं कर सकती है। भारत सरकार के सडक़ परिवहन मंत्रालय के क्षेत्रीय कार्यालय के चीफ इंजीनियर ने निविदा आमंत्रित करते हुए नोटिस जारी कर एनएच 58 के ब्यावर गोमती खंड के साथ 4 लेन तक अप ग्रेडेशन के लिए ईपीसी मोड पर राजस्थान राज्य में पुराना पुराना एनएच 8 किमी 58.245 से किमी 108.600 तक (पैकेज 1) के लिए 319.20 करोड़ तथा किमी 108.60 से किमी 144.00 किमी 158.42 से किमी 173.30 (पैकेज 2) तक के लिए 281.73 करोड़ की निविदाएं आमंत्रित की है। कुल 600.93 करोड़ की निविदाएं आमंत्रित की गई है। मांगी गई निविदाओं में महत्वपूर्ण यह है कि कार्य को 24 माह की अवधि में पूर्ण करने के साथ 5 वर्ष तक रखरखाव करना होगा। टेंडर प्रक्रिया पूर्ण होते ही कार्य शुरू हो जाएगा।

केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी और केंद्र की मोदी सरकार का आभार व्यक्त करती हूं। इतनी बड़ी परियोजना का क्रियान्वयन केवल मोदी सरकार में ही सम्भव है। ब्यावर गोमती फोरलेन परियोजना चुनाव पूर्व से ही हमारा संकल्प था। सपने साकार होने में जो खुशी मिलती है, वही खुशी मुझे आज हो रही है। टेंडर प्रक्रिया पूर्ण होते ही युद्ध स्तर पर कार्य शुरू हो जाएगा। जनता की खुशी में ही हम सब की खुशी है। इस सबका श्रेय में जनता जनार्दन को ही देना चाहूंगी। जनता के विश्वास से ही सबकुछ सम्भव हो पाया है।

  • दीया कुमारी, सांसद