कोविशील्ड नाम की इस दवा को लेकर प्रशासन ने तैयारियां पूरी कर दी है, टीकाकरण 16 जनवरी से

उदयपुर। लेकसिटी को मानो इस दिन का ही इंतजार था। अमूमन गणपति जी का वार माने जाने वाले बुधवार को मंगल कार्य की मानो घट स्थापना हुई। इस दिन शुभ वेला में लेकसिटी में ऐसे मेहमान का पर्दापण हुआ जो इस सदी का महानायक साबित होगा। कोविशील्ड नाम के इस महानायक की फौज अपने साथ एक लाख पांच सौ साथियों के साथ कोरोना पर घातक प्रहार करने के लिए तैयार है। बुधवार को हवाई यात्रा से सभी एक लाख योद्धा जैसे ही लेकसिटी पहुंचे सीएमएचओ सहित प्रशासन के आला अधिकारियों ने इसका आत्मीय स्वागत किया। वाकई स्वागत होना ही चाहिए। इस वैक्सीन को हमें इसलिए ज्यादा जरूरत थी क्यों कि यही वो योद्धा है जो कोरोना पर काल बनकर टूटेगा और मानव मात्र के कल्याण के लिए अग्रणी भूमिका निभाएगा। इसके लिए हमें लंबा इंतजार तो करना पड़ा मगर बुधवार को जैसे ही पहली खेप विशेष विमान से मुंबई से सीधे डबोक हवाई अड्डे पर पहुंची सबकी निगाहें इनके बक्शे पर आकर टीक गई।

उदयपुर में सोश्यल मीडिया पर कोरोना वैक्सीन से जुड़ी खबरों ने आमजन को वो सुकून दिया मानो इसके लिए हम सदियों से इंतजार कर रहे थे। उदयपुर के मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी दिनेश खराड़ी ने बताया कि प्रथम चरण की वैक्सीन उदयपुर पहुंच चुकी है। इसमें कुल 100500 डोज है। जिन्हें बड़ी स्थित कोविड वैक्सीन स्टोरेज सेंटर में रखा जाएगा। जहां से शुक्रवार को विभिन्न केंद्रों पर हाई सिक्योरिटी के बीच भेजेंगे। सीएमएचओ खराड़ी ने कहा की उदयपुर में वैक्सीन भंडारण क्षमता 5 लाख डोज तक है। जिन्हें विशेष वाहनों से उदयपुर के साथ अन्य जिलों में भी भेजा जा सकता है।

उदयपुर में कोरोना वैक्सीन पहुंचने के साथ ही टीकाकरण की तैयारियां भी तेज हो गई है। उदयपुर में 16 जनवरी से टीकाकरण शुरू होगा। इसमें प्रथम चरण में हेल्थ वर्कर्स को कोविशिल्ड लगाई जाएगी। इसमें हर केंद्र पर 100 हेल्थ वर्कर्स को वैक्सीनेशन किया जाएगा। उदयपुर जिला प्रशासन द्वारा इसके लिए कई बार ड्राई रन कर वैक्सीनेशन की रिहर्सल भी की जा चुकी है।