मावली से ओम पुरोहित की रिपोर्ट

मावली। पंचायत समिति मावली में कल हुए तीसरे चरण के चुनाव के बाद बाड़ेबंदी का दौर शुरू हो गया। यूं कहे तो भी ठिक रहेगा कि रबड़ी के लिए मशहूर मावली में मलाईख्खाने के लिए सब बेताब दिख रहे है। खास बात ये है कि बाड़ेबंदी में इस बार कांग्रेस और भाजपा दोनों में अपने-अपने स्तर पर प्रधान पद के दावेदार बाड़ेबंदी कर चुके है। जबकि कई प्रत्याशी ऐसे है तो पार्टी के साथ बाड़ेबंदी में जाने के लिए तैयार नहीं है। कांग्रेस की ओर से प्रधान पद के प्रबल दावेदार माने जाने वाले पूर्व विधायक पुष्कर लाल डांगी के अलावा अचानक गिरिजा व्यास के करीबी नरेंद्र चंडालिया की ओर से भी प्रत्याशियों की बाड़ेबंदी करने से राजनैतिक चर्चाएं तेज होने लगी। लोग अपने-अपने स्तर पर कयास लगाने लग गए। इधर, भाजपा में प्रबल पद के दावेदार चंद्रगुप्त सिंह के सामने उम्मीदवार टक्कर का होने से दूसरे नंबर पर आने वाले प्रत्याशी ने भी अपने स्तर पर बाड़ेबंदी की। इधर, कुछ वार्डों के भाजपा उम्मीदवारों ने बाड़ेबंदी में जाने से मना कर दिया। उनका कहना है कि हम जिताने के लिए कोई बड़ा नेता नहीं आया तो हम किसी के साथ बाड़ेबंदी में किसी के इशारे पर क्यों जाए।
बता दें कि मावली पंचायत समिति में कुल 25 वार्ड है और एक वार्ड पहले ही भाजपा प्रत्याक्षी के नामांकन उठाने के कारण कांग्रेस के खाते में चला गया है। इसके बाद 24 वार्डो में हुए चुनाव के बाद दोनों ही पार्टियों के आलाकमान ने प्रत्याशियों की बाड़ेबंदी करनी शुरू कर दी है। लेकिन जानकारी के अनुसार अभी तक कई प्रत्याक्षी पार्टी कार्यालय तक नहीं पहुंचे है जिससे आलाकमान चिंता में है। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार कई वार्डों में प्रत्याशियों को स्थानीय नेताओं ने बाड़ेबंदी से दूर अपने घरों में रख लिया है जिससे आलाकमान स्थानीय नेताओं को मनाने में लगे हुए है।।

चौहान की राह नहीं आसान

कहा जा रहा है कि भाजपा की ओर से वार्ड क्रमांक 22 लोपड़ा, सालेरा से प्रत्याक्षी चन्द्रगुप्त सिंह चौहान प्रधान के उम्मीदवार हो सकते है। लेकिन चौहान की राहों में कांग्रेस प्रत्याशी की मजबूती रोड़े लगा सकती है। कांग्रेस प्रत्याशी के मजबूत होने से कई स्थानीय भाजपा नेता भी प्रधान पद की दौड़ में शामिल हो गए है और कई प्रत्याशियों की अपने-अपने स्तर पर बाड़ेबंदी शुरू कर दी। आलाकमान स्थानीय नेताओं को मनाने में लगा हुआ है।

चंद्रगुप्त चौहान

कांग्रेस में प्रधान पद की दौड़ में आगे आए चंडालिया

कांग्रेस पार्टी में भी प्रधान पद को लेकर कोहराम मचा हुआ है। पूर्व विधायक पुष्करलाल डांगी ने अपने प्रत्याशियों की बाड़ेबंदी शुरू कर दी है तो दूसरी तरफ एक ओर कांग्रेस नेता व घासा के पूर्व सरपंच नरेन्द्र चंडालिया ने भी प्रधान पद की ताल ठोक दी है। चंडालिया ने भी कांग्रेस प्रत्याशियों की बाड़ेबंदी करना शुरू कर दिया है। मावली पंचायत समिति में कई कांग्रेस नेता पूर्व विधायक पुष्करलाल डांगी से नाराजगी के कारण चंडालिया गुट में शामिल हो गए है। ऐसे में चंडालिया की कुर्सी के लिए पूरा दमखम लगाने में जुट गए है। बता दें कि नरेन्द्र चंडालिया के पिताजी देवीलाल चंडालिया कई सालों तक घासा पंचायत के सरपंच पद पर काबिज रहे और कांग्रेस पार्टी के पुराने नेता माने जाते है। उन्होंने टिकट नहीं मिलने पर मावली विधानसभा का चुनाव भी लड़ा लेकिन हार गए। नरेन्द्र चंडालिया को पूर्व सासंद गिरिजा व्यास का नजदीकी माना जाता है।

नरेंद्र चंडालिया