खनन रूकावाने गए ग्रामीणों ने लगाया धमकियां देने का आरोप

खमनोर। खमनोर क्षेत्र के उसरवास की बड़ी बल्लों की भागल में आबादी क्षेत्र में पिछले करीब 3 महीनों से बिना किसी लीज के आम रास्ते से धड़ल्ले से सफेद सोना (फेल्सपार पत्थर) का अवैध खनन किया जा रहा है। इस अवैध खनन को लेकर ग्रामीणों ने पूर्व में भी अधिकारियों को कई बार लिखित शिकायत की गई। लेकिन अधिकारियों की मिलीभगत से कोई कार्यवाही नहीं हुई। इससे खनन माफियाओ के हौंसले और बुलंद हो गए और दिन रात धलल्ले से अवैध खनन किया जा रहा है। इस अवैध खनन से सरकार को फेल्सपार से रॉयल्टी के रूप में प्राप्त होने वाली लाखों रुपयों के राजस्व का नुकसान हो रहा है। खनन माफियाओं द्वारा एलएनटी मशीन से फेल्सपार का खनन कर प्रतिदिन 4 से 5 डम्पर लोड कर बिना रायल्टी के परिवहन कर बाजार में बेचा जा रहा है। ग्रामीणों ने बताया कि खनन माफियाओं द्वारा गांव में आने वाले रास्ते से भी पत्थर निकल दिए। वहीं खनन माफियाओं द्वारा हर रोज आबादी क्षेत्र में ब्लास्टिंग की जाती है। जिससे पत्थर लोगों के घरों आकर गिरने से घर क्षतिग्रस्त हो रहे है। ग्रामीणों द्वारा खनन का विरोध करने पर माफियाओ द्वारा कई तरह की धमकियां दी जाती है। शनिवार को सुबह से ही खनन माफियाओं द्वारा एलएनटी मशीन से खनन किया जा रहा था। इस पर ग्रामीणों ने मौके पर पहुंचकर खनन रूकवा दिया। ग्रामीणों के वहा पहुंचने पर खनन माफिया एलएनटी छोड़ कर भाग गए। ग्रामीणो ने पत्थर से भरे डम्पर को वहीं रूकवा कर खमनोर थानाधिकारी पारस मल विरवाल को सूचना दी। करीब 1 घण्टे बाद एएसआई अर्जुनसिंह, कास्टेबल लीलाधर, हेमराज, रमेश जोशी मौके पर पहुंचे। लेकिन उससे पहले खनन माफिया ने ग्रामीणों को डरा कर डम्पर को मौके पर से शिशोदा की तरफ रवाना कर दिया। इसके बाद पुलिस ने डम्पर का पीछाकर शिशोदा के करीब डम्पर को जप्त किया। चालक के पास कोई रॉयली नहीं होने पर पुलिस जप्त किए गए डम्पर को खमनोर थाने लेकर आई और खनन विभाग को सूचना दी।
इनका कहना…
ग्रामीणों की सूचना पर मौके पर जाब्ता भेजकर फेल्सपार के पत्थरों से भरे डम्पर को जप्त कर लिया गया है। चालक के पास रायल्टी नहीं होने से जप्त डम्पर को थाने में खड़ा करवाकर खनन विभाग को सूचना दी गई है।

  • पारसमल विरवाल, खमनोर थानाधिकारी