कोहरो में डूबा रहा राजसमंद शहर, मावठ के चलते हुई बारिश
राजसमंद, चेतना भाट। नये साल के प्रारंभ से ही पिछले चार दिनों से मौसम में हो रहे उतार चढ़ाव के बाद सोमवार को फिर से मौसम का मिजाज बदल गया। सोमवार अल सुबह से ही आसमां में बादल छाए रहे जिससे दिन भर भी सूर्य देव के दर्शन नहीं हो पाए। वहीं शहर सहित पूरा जिला कोहरे की आगोश में समाया रहा। दिन भर कोहरा छाया रहा जिससे विजिबिलिटी नहीं होने से हाईवे पर वाहन चालकों को काफी दिक्कातों का सामना करना पड़ा। यकायक हुए मौसम के बदलाव के कारण फिर से लोगों की दिनचार्या प्रभावित हो गई है। सोमवार को शहर सहित जिलेभर में बूंदाबांदी के साथ मावठ हुई। कहीं तेज तो कहीं मूसलाधार बारिश के चलते सडक़े व गलियों ने दरिया का रूप ले लिया। जिला मुख्यालय पर रात नो बजे अचानक तेज बारिश हुई। जिससे सडक़े भींग गई। सोमवार को जिले का न्यूनतम तापमान तीन डिग्री की गिरावट के साथ 10 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया वहीं अधिकतम तापमान 0.5 डिग्री की बढ़त के साथ 27.2 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। रविवार को मौसम साफ रहा तथा न्यूनतम तापमान 13 डिग्री दर्ज किया गया। लेकिन मौसम में बदलाव के साथ ही सोमवार का शुरुआत घने कोहरे व आसमां में छाए बादलों के साथ हुई। हालांकि सर्दी का असर दिसम्बर माह के अंतिम दिनों के मुकाबले कम रहा है। ज्ञांतव्य है कि दिसम्बर माह के अंत के कुछ दिनों में तापमान में भारी गिरावट के साथ चली शीत लहर के बीच न्यूनतम तापमान 0.8 डिग्री तक दर्ज किया गया था। जो कि इस सीजन की सबसे ठंडी रात रही। वहीं पाला गिरने से फसलों का भी नुकसान हुआ। लेकिन नये साल के साथ ही जनवरी के शुरुआती दिनों में तापमान में बढ़ोत्तरी होने से के साथ ही शीत लहर थमने से सर्दी से थोड़ी राहत मिली।

जिला मुख्यालय सहित आस-पास में बारिश

मौसम के खराब होने के साथ ही मावठ से जिला मुख्यालय सहित चारभुजा, गौमती, केलवा, आमेट आदि क्षेत्रों में बारिश होने के समाचार मिले है। चारभुजा क्षैत्र के गौमती चौराहा, चारभुजा, धानीन, जणावद आदि क्षेत्रों में बादलों की गर्जना के साथ करीब 20 मिनट तक बारिश हुई। बारिश के साथ चली हवाओं से सर्दी का असर और गलन बढ़ जाने से लोगों को दिन भी अलाव का सहारा लेना पड़ा। हालांकि कृषि विभाग के अधिकारियों के अनुसार बारिश होने से गेहूं, जौ आदि रबी की फसलों को काफी फायदा होगा। लेकिन सब्जियोंं व अन्य फसलों को नुकसान हो सकता है। ईधर, जिला मुख्यालय पर ही बारिश की हल्की फुंहार हुई। बारिश के कारण मौसम ठंडा रहा। वहीं कुछ जगहों पर हवा चलने से हालात और भी सर्द भरे बने रहे।

किसनों की बढ़ी चिंता

पिछले कुछ दिनों से मौसम में हो रहे उतार चढ़ाव ने किसानों को चिंता में डाल दिया है। सोमवार को मौसम खराब होने के साथ ही हुई बारिश से कुछ फसलों को तो फायदा पहुंच सकता है लेकिन अन्य फसलों के होने वाले नुकसान को देखते हुए किसान काफी चिंतीत है। गिरते तापमान में साथ ही चलती शीत लहर के कारण अन्य फलदार फसलों, बैंगन, टमाटर की फसलों में जलने (दाह) लगने का खतरा बना हुआ है। पिछले दिसम्बर माह के अंत में भी शील लहर चलने से कई फसलों का खराबा हो चुका है।

राजसमंद। चारभुजा क्षेत्र में हुई मावठ के बाद सडक़ किनारे भरा बारिश का पानी एवं अलाव तापकर ठण्ड से बचने का जतन करते ग्रामीण।

आगामी दिनों में मौसम खराब होने की संभावना

पश्चिमी विक्षोभ के सक्रिय होने के कारण मौसम में लगातार बदलाव जारी है। पूर्वी राजस्थान के कई जिलो में बारिश और मावठ हुई। वहीं देश की राजधानी में भी बारिश का दौर जारी है। राज्य के बारां, अलवर, दौसा, भरतपुर, जयपुर सहित अन्य जिलों में बारिश के साथ ओले गिरे। इसका असर राजसमंद तक भी पहुंच रहा है। आगामी दिनों में जिले में भी मौसम खराब रहने के साथ ही जिले में मावठ व बारिश होने की संभावना है। मावठ व बारिश होने से सरसो, प्याज, गेहूं, चना, जौ, फल, सब्जियों की फसल बर्बाद हो सकती है।
पिछले एक सप्ताह में मौसम का बदलाव
दिन अधि. तापमान न्यून. तापमान
4 जनवरी 27.2 डिग्री 10 डिग्री
3 जनवरी 26.7 डिग्री 13 डिग्री
2 जनवरी 25.4 डिग्री 12 डिग्री
1 जनवरी 22.0 डिग्री 6.0 डिग्री
31 दिसम्बर 21.7 डिग्री 1.0 डिग्री
30 दिसम्बर 21.8 डिग्री 0.8 डिग्री
29 दिसम्बर 22.4 डिग्री 1.0 डिग्री