राजसमन्द से चेतना भाट की रिपोर्ट

राजसमन्द। जिला मुख्यालय पर कांकरोली थाना क्षेत्र के जेके सर्कल स्थित गैस गौदाम के कार्यालय में नौकरी करने वाले कर्मचारी की हत्या के आरोप में पुलिस ने मृतक के रिश्तेदार दिनेशचन्द्र बुनकर पुत्र उदयलाल बुनकर निवासी कुरेटा सांवरियाजी चित्तौडग़ढ़ को गिरफ्तार किया। थानाधिकारी योगेन्द्र व्यास ने बताया कि पूर्व विधायक का दामाद मृतक मुरलीधर सौलंकी पुत्र छीतरमल बुनकर (48) निवासी छापरी, सिंहपुर चित्तौडग़ढ़ हाल कांकरोली का शव मंगलवार को गैस गोदाम परिसर में बने कमरे की सीढ़ियों के नीचे बिस्तरों में लिपटा हुआ मिला था। मृतक के साले गणपत गहलोत की ओर से दर्ज करवाई रिपोर्ट में मृतक के रिश्तेदार दिनेशचन्द्र पुत्र उदयलाल बुनकर निवासी कुरेटा सांवरियाजी चित्तौडग़ढ़ पर शंका जाहिर की। मामले को गंभीरता से लेते हुए पुलिस अधीक्षक भूवन भूषण यादव, एएसपी राजेश गुप्ता ने डीएसपी गोपाल सिंह भाटी के नेतृत्व में थानाधिकारी योगेन्द्र व्यास की मौजूदगी में मामले की अनुसंधान के लिए टीम का गठन किया गया। इसमें पूरण सिंह हैड कांस्टेबल, छोगालाल, रामचन्द्र, हरलाल कांस्टेबल, हिम्मत सिंह को शामिल किया गया। टीम ने एमओबी व एफएसएल टीम की जांच रिपोर्ट के आधार पर अनुसंधान करते हुए आरोपी को पकड़ लिया। थानाधिकारी व्यास ने बताया कि आरोपी मृतक के रिश्तेदार होने के कारण गैस गोदाम पर बने हुए कमरे पर आना-जाना रहता था। आरोपी ने बताया कि सोमवार रात को आरोपी मृतक से मिलने पहुंचा, जहां पर होटल पर खाना खाने के बाद वे सोने के लिए कमरे पर चला गया। जहां मृतक के पास से रुपये लूटने का प्रयास कर रहा था कि इसी दौरान मृतक के जाग जाने व हल्ला करने से मृतक को ऊपरी मंजिल से धक्का दे दिया। जिससे वो नीचे गिर गया और उसकी मौत हो गई। इसके बाद किसी को शक नहीं हो उसके लिए मृतक के शव को सीढ़ियों के नीचे छुपाकर उसके ऊपर बिस्तर व कम्बल डाल दिए। आरोपी पैसे व मोबाइल लेकर फरार हो गया। पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है जिसे शुक्रवार को न्यायालय में पेश किया जाएगा। 

आरोपी का गश्त के दौरान मोबाइल में फोटो लेने से मिली मदद

आरोपी वारदात करने के बाद रात्रि को जेके सर्कल पहुंच गया। जहां पर गश्त पर तैनात पुलिसकर्मियों ने पूछताछ की तो उसने गैस गौदाम पर कार्य करने की बात बताई। पुलिस ने सत्यापन के लिए गैस गौदाम पर कार्य करने वाले कर्मचारी को फोन कर उसके बारे में जानकारी चाही। इसमें उन्होंने बताया कि दिनेश नाम का कर्मचारी हमारे यहीं नौकरी करता है। उसके बाद उसे छोड़ दिया। लेकिन थानाधिकारी यागेन्द्र व्यास ने स्पष्ट आदेश दे रखे है कि रात्रि के समय में कोई भी मिले उसके मोबाइल नम्बर एवं उसका फोटो सहित परिचय जरूर नोट करें। थानाधिकारी के आदेशानुसार गश्त दल में शामिल कांस्टेबल हरलाल ने आरोपी का मोबाइल में फोटो खिंच लिया, जिसके चलते मामले में जल्द सफलता मिल गई।