सोशल मीडिया पर अफवाह के बाद उमड़ा जनसैलाब

दरियाव सिंह की रिपोर्ट

 राजसमंद। जिले का सबसे बड़ा बांध नंदसमंद लबालब होकर छलकने को आतुर है। 32 फिट की क्षमता वाले बांध के छलकने के बाद यमुना स्वरूप बनास नदी में पानी की आवक शुरू हो जाएगी। 750एमसीएफटी भराव क्षमता वाले नंदसमंद बांध के छलक ने की सोशल मीडिया पर चल रही अफवाहों के बाद क्षेत्रवासियों के मन में खुशी हिलोरे मारने लगी। छलकते बांध की जलधारा को देखने  सैकड़ों लोग पहुंचे। लेकिन वहां जाने के बाद पानी छलकता हुआ नहीं दिखने पर लोग मायूस हो गए। सैकड़ों की भीड़ बांध के पाल पर चलने का मजा, उत्साह, उमंग, पाल के नीचे से तेज पानी का बहाव सफेद झाग पैदा करती जलधारा देखने का एक अलग ही आनंद की अनुभूति का आनंद लेना चाहते है। लेकिन बांध पर सुरक्षा बिल्कुल नहीं है। एक या दो विभाग के कर्मचारी कहीं कोई सुरक्षा गार्ड नहीं लगे है।
टूटी रेलिंग, जान का खतरा : बांध पर कई फीट लम्बी पाल बनी हुई है। इसी पाल से इसी रेलिंग के सहारे से लाेग चलकर जाते है। यह रेलिंग बीच में एक तरफ करीब 60 फीट तथा दूसरी तरफ करीब 25 फीट टूटी है। दोनों तरफ गिरने के पूरे चांस है। सैकडों लोग बांध पर पहुंचते है। महिलाए, बच्चे, बुजुर्ग सभी के लिए यह टूटी रेलिंग जान का खतरा है। सोशल मीडिया पर अफवाहों के बाद शहर में दिनभर बनास के पानी को देखने लोग इमली नीचे क्षेत्र में बने बनास के पुल पर भी पहुंचते देखे गए।