मजेरा हाईवे पर रोडवेज कर्मचारी नियुक्त, फिर भी मनमानी
देलवाड़ा। देलवाड़ा बस स्टोप पर रोडवेज का संचालन नहीं होने पर शनिवार को आक्रोशित ग्रामीणों ने कस्बे के बाजार बंद करने के साथ ही मजेरा चौराहे पर बसों खड़ा करवा कर करीब साढ़े तीन घंटे तक प्रदर्शन किया। वहीं चालक और परिचालक को सख्त हिदायत देकर कस्बे के बस स्टेण्ड पर बसों का ठहराव करने के लिए हिदायत दी। इसके बाद रविवार को कस्बे के बस स्टेण्ड पर कई बसे पहुंची तथा कुछ बसें बिना रूके ही चली गई। दोपहर करीब एक से सवा एक बजे तक अजमेरु आगार की बस, उदयपुर से जोधपुर चलने वाली बस को यात्रिगण हाथ देते रहे और लेकिन बस नहीं रूकी। यात्रियों को जब तक गाडिय़ों का ठहराव बस स्टेण्ड पर नहीं होगा तब तक समाधान संभव नहीं हो पाएगा। देलवाड़ा, कैलाशपुरी मार्ग पर बसों के संचालन को सुनिश्चित करने के लिए विभाग द्वारा मझेरा तिराहे पर बालूसिंह भीलवाड़ा डिपो से व रोहित राजसमंद डिपो से दोनों रोडवेज कर्मियों की ड्यूटी लगाई। इसके बाद भी एक सवारी को टिकट होने के बावजूद चालक परिचालक द्वारा मझेरा हाईवे उतारने का प्रयास किया। उसके द्वारा युवाओ को फोन करने पर मजबूरन गाड़ी को देलवाड़ा बस स्टेण्ड पर लाया गया। भीलवाडा डिपो की बस में टिकट दिया गया। लोगों के आक्रोशित होने पर देलवाडा बस स्टेण्ड पर समझाईश की। इस दौरान वार्ड पंच प्रभुदास वैष्णव, एडवोकेट भूपेंद्र यादव, प्रहलादसिंह, विनोद यादव, गणपत यादव, चंद्रप्रकाश सोनी व कई ग्रामीण मौजूद थे,