कुंवारिया थाना सर्कल के कुरज गांव का मामला
कुंवारिया। कस्बे के समीपवर्ती कुरज गांव में 18 दिन पूर्व एक विवाहिता के फंदे पर झूल कर अपनी जीवन लीला समाप्त करने को लेकर पुलिस ने प्रार्थी की रिपोर्ट पर हत्या का मामला दर्ज करते हुए अनुसंधान शुरू कर दिया है। पुलिस ने ससुर, जेठ, जेठानी, पति सहित 6 के खिलाफ दहेज हत्या का मामला दर्ज किया है। थानाधिकारी पेशावर खान ने बताया कि कुरज में 18 अक्टूबर को अन्नू के फंदे पर झूलने की उनके पिता प्राथी लालूराम पिता भागीरथ रेगर निवासी हमीरगढ़ जिला भीलवाड़ा ने रिपोर्ट दी। रिपोर्ट में बताया कि मेरी बेटी को इन्होंने दहेज कम देने का दबाव बनाया है और उनसे उनको प्रताडि़त किया गया है। इस पर पुलिस ने कुरज निवासी ससुर शंकरलाल पुत्र रामलाल, जेठ राजेश, पति तिलकेश रेगर, ननंद अंछी देवी पति कैलाश चंद्र निवासी नया समेलिया, चंदा व जेठानी सुशीला पति राजेश द्वारा दहेज की मांग की जा रही थी। दहेज को लेकर आए दिन परिवार के लोगों द्वारा अनु को परेशान किया जाता था। रिपोर्ट में बताया कि ससुराल पक्ष के लोगों ने अनु से एक फोर व्हीलर व 5 लाख नगद लेकर आने की बात कही। अगर नहीं आएंगे तो तुझे नहीं रखेंगे। ससुराल पक्ष के लोगों द्वारा दहेज की मांग पर लड़ाई झगड़े कर 16 सितंबर को अनु को हमीरगढ़ छोड़ कर गए थे व 10 अक्टूबर को पुन: दामाद लेने के लिए आए थे तो बेटी को समझाकर कुरज भेजा। जहां पर ससुराल पक्ष के लोगों द्वारा उसे दहेज की मांग को लेकर शारीरिक मानसिक रूप से परेशान किया जाता था। बेटी को ससुराल पक्ष के लोगों द्वारा बार.बार ताने मारे जाते थे और दहेज की मांग की जा रही थी इस पर 18 अक्टूबर को अनु को साड़ी से फंदा लगाकर मार दिया था उसकी हत्या की गई थी। इस पर पुलिस ने प्रकरण दर्ज कर अनुसंधान शुरू कर दिया है। मामले की जांच रेलमगरा एसडीएम प्रशिक्षु डिप्टी नोपा राम भाकर व जितेंद्र आंचलिया कर रहे है। पुलिस ने ससुराल पक्ष के लोगों के खिलाफ धारा 498 व 304बी में मामला दर्ज कर अनुसन्धान में जुट गई है।

3 साल से फरार स्थाई वारंटी गिरफ्तार
कुंवारिया। थाना पुलिस ने 3 साल से भीलवाड़ा जिले के कारोही थाना क्षेत्र के मोमी निवासी रामसिंह पुत्र भैरू सिंह रावत 3 साल से पेशी पर नहीं जा रहा था इस पर वह स्थाई वारंटी बन गया। इस पर पुलिस ने चित्तौडग़ढ़ से गिरफ्तार किया। हेड कांस्टेबल उदय सिंह ने बताया कि वह 3 साल पूर्व दुर्घटना में पेशी पर नहीं गया था। इस पर स्थाई वारंट निकला उसे गिरफ्तार कर न्यायालय में पेश किया जहां उसे जेल भेज दिया गया। इसी तरह चोरी के मामले में 2 साल से फरार चल रहे स्थाई वारंटी देवी लाल उर्फ देवराज पिता किशन लाल भील निवासी भाकरोदा को गिरफ्तार कर न्यायालय में पेश किया जहां उसे भी जेल भेजा गया।