• – दोनों पक्षों ने एक दूजे के खिलाफ सौंपा कलक्टर को ज्ञापन
    राजसमंद, चेतना भाट। जिला मुख्यालय के निकटवर्ती जेके ग्राम स्थित जेके टायर फैक्ट्री में शनिवार अल सुबह दो श्रमिक गुटों में मारपीट के बाद माहौल तनावपूर्ण हो गया। बाद में कांकरोली थाना पुलिस मौके पर पहुंच गई। फिर इंटक के कार्यकर्ता फैक्ट्री परिसर में ही धरने पर बैठे रहे। जबकि भामसं के जुड़े कार्यकर्ता रेलवे स्टेशन स्थित कार्यालय के बाहर बैठे रहे। बाद में दोनों पक्षों द्वारा जिला कलक्टर को ज्ञापन सौंपा गया। लेकिन मामले को लेकर कांकरोली थाने में कोई प्रकरण दर्ज नहीं हुआ। जानकारी के अनुसार जेके टायर फैक्ट्री में सुबह 6 बजे की शिफ्ट में भामसं व इंटक से जुड़े श्रमिकों विवाद को लेकर आपस में मारपीट हो गई। विवाद बढऩे की सूचना मिलने पर कांकरोली थानाधिकारी योगेन्द्र व्यास पुलिस लाईन से अतिरिक्त पुलिस जाप्ता के साथ मौके पर पहुंचे। पुलिन ने मौके पर से लोगों को तितर बितर किया। इसके बाद फैक्ट्री परिसर के बाहर इंटक की ओर से धरना दिया गया। जबकि भामसं से जुड़े श्रमिक रेलवे स्टेशन स्थित कार्यालय के बाहर बैठे रहे। ऐतिहायात के तौर पर मौके पर पुलिस जाब्ता तैनात रहा। इधर, भामसं अध्यक्ष दिनेश पालीवाल के नेतृत्व में आधा दर्जन श्रमिकों ने जिला कलक्टर अरविंद कुमार पोसवाल को ज्ञापन दिया। इसके अलावा दूसरे पक्ष की ओर सभी ज्ञापन सौंपे जाने की बात कही गई। हालांकि देर रात तक कांकरोली थाने में किसी भी पक्ष द्वारा कोई रिपोर्ट दर्ज नहीं कराई गई। लेकिन फिर की ऐहतियात के तौर पर शांति एवं सुरक्षा व्यवस्था को लेकर देर रात तक कुछ पुलिसकर्मी तैनात रहे।
    8 कार्मिकों को हटने से एक माह से धरना
    इंटक युनियन प्रदेश संगठन महामंत्री किशनसिंह शक्तावत ने बताया कि कार्मिक जायज मांग को लेकर फैक्ट्री प्रबंधन के पास गए। लेकिन प्रबंधन मनमानी करते हुए द्वारा आठ कार्मिकों को हटा दिया। कार्मिकों को पुन: बहाल करने की मांग को लेकर 22 सितंबर से ही धरना दिया जा रहा है। ईधर, मारपीट के मामले में इंटक के अनुसार विपक्षी समुह के श्रमिकों ने जबरन हमला दिया जबकि वे शांति पूर्वक धरने पर बैठे हुए है। वहीं दूसरी और भामसं के लक्ष्मीलाल कुमावत ने बताया कि इंटर द्वारा बेवजह धांधली की जा रही है और आए दिन श्रमिकों के साथ अभद्रता का व्यवहार किया जाता है।
    कोई रिपोर्ट नहीं आई्र, पुलिस तैनात
    अब तक तो थाने में जेके टायर फैक्ट्री में श्रमिकों के लड़ाई-झगड़े व मारपीट सम्बम्धी कोई रिपोर्ट नहीं मिली है। दोनों पक्षों की ओर से जिला कलक्टर को ज्ञापन सौंपा गया है। फिलहाल जहां से भी अब इस सम्बन्ध में कोई निर्देश नहीं मिले है। हालांकि मौके पर शांति व्यवस्था को लेकर पुलिस जाप्ता तैनात है।
  • योगेन्द्र व्यास, कांकरोली थानाधिकारी