राजसमंद, चेतना भाट। राजकीय विशेषज्ञ दत्तक गृहण एजेन्सी में बुधवार को नई मेहमान काव्या को आश्रय दिया गया। बाल अधिकारिता विभाग के सहायक निदेशक कृष्ण कान्त सॉंखला ने बताया कि गत माह 9 दिसम्बर को दोपहर में मिली नवजात शिशु बालिका को किसी व्यक्ति द्वारा जिले के राजकीय आरके चिकित्सालय के पालना गृह में सुरक्षित परित्याग कर दिया गया था। उन्होंने बताया कि बालिका का वजन 2.30 किग्रा था एवं फेफडों में संक्रमण एवं श्वास में तकलीफ होने से शिशु रोग विशेषज्ञ डॉं सारांश सम्बल ने बालिका को महाराणा भुपाल चिकित्सालय में रेफर किया गया। बालिका लगभग 1 माह और 7 दिन बाद पूर्ण स्वस्थ हुई। विभाग द्वारा बालिका को काव्या नाम दिया गया है। विभाग द्वारा नियमित अन्तराल पर शिशु बालिका के स्वास्थ्य संबंधी जानकारी उदयपुर चिकित्सालय से ली जाती रही है। सहायक निदेशक ने बताया कि उदयपुर चिकित्सालय से दूरभाष पर प्राप्त सूचना पर राजकीय शिशुगृह समन्वयक प्रकाश चन्द्र सालवी, सामाजिक कार्यकर्ता सुमन शर्मा व आया सुगना महाराणा भुपाल चिकित्सालय पहुंचे और बालिका को लेकर बाल कल्याण समिति के आदेश पर राजकीय शिशुगृह में आश्रय दिया। बाल कल्याण समिति अध्यक्षा भावना पालीवाल ने बताया कि बालिका को फोटो मय जानकारी देने पर भी यदि 30 दिवस के भीतर कोई रिश्तेदार या माता पिता नहीं आते तो बालिका को बाल कल्याण समिति से विधि मुक्त घोषित कर दत्तक ग्रहण के लिये दिया जाएगा। इसके लिए शिशु को बाल कल्याण समिति अथवा बाल अधिकारिता विभाग के सुपूर्द किया जा सकता है अथवा जिले में दो जगह आरण्के चिकित्सालय एवं नाथद्वारा में गोवर्धन चिकित्सालय में पालना गृह में सुरक्षित परित्याग किया जा सकता है।

राजसमन्द में 3 एवं देवगढ़ में 1 उम्मीदवार ने भरा नामांकन

राजसमंद। राजसमन्द नगर परिषद व देवगढ़ नगर पालिका चुनाव 2021 के लिये नाम निर्देशन पत्र प्रस्तुत करने के क्रम में तीसरे दिन बुधवार को नगर परिषद राजसमन्द के लिए 3 उम्मीदवारों ने 4 नामांकन पत्र प्रस्तुत किये तथा नगर परिषद देवगढ़ के लिए 1 उम्मीदवार ने नाम निर्देशन पत्र प्रस्तुत किया है। इसी के साथ अब तक कुल चार उम्मीदवारों ने 5 नामांकन पत्र भरें।

विधायक माहेश्वरी चुनाव याचिका के मामले में सुनवाई तिथि 29 जनवरी यथावथ

राजसमंद। राजसमंद विधानसभा चुनाव को लेकर एडवोकेट जितेंद्र कुमार खटीक की ओर से उच्च न्यायालय मेंलगाई गई चुनाव याचिका के संदर्भ में उच्च न्यायालय की ओर से विधायक किरण माहेश्वरी बनाम जितेन्द्र खटीक वाले मामले में दी गई 29 जनवरी से पूर्व जल्द सुनवाई करने के लिए लगाए गए प्रार्थना पत्र पर 12 जनवरी को हुई सुनवाई में न्यायाधीश विनित माथुर ने सुनवाई तिथि को 29 जनवरी 2021 यथावथ रखने के आदेश दिए है। गौरतलब है कि राज्य सरकार की ओर से पैरवी कर रहें सरकारी अधिवक्ता बेनिवाल ने ने जल्द सुनवाई हेतु उच्च न्यायालय में प्रार्थना पत्र पेश की थी। लेकिन न्यायालय ने कॉर्ट की ओर से जारी तिथि को यथावथ रखते हुए की सरकार की सारी कोशिशे नाकाम कर दी है। गौरतलब है कि राजसमंद विधायक किरण माहेश्वरी के निधन के बाद खाली हुई राजसमंद विधानसभा सीट पर उपचुनाव होने है। अधिवक्ता सरकार की तरफ से पक्षकार हटने का प्रार्थना पत्र पूर्व में ही पेश किया जा चुका था। एडवोकेट जितेंद्र कुमार खटीक बनाम किरण माहेश्वरी 05/2029 चुनाव याचिका के मामले में सुनवाई अब 29 जनवरी को होगी।