• कोरोना गाइड लाइन के साथ होंगे तीन दर्शन
  • तृतीय पीठाधीश्वर के आज्ञा पर ही दर्शन व्यवस्था प्रारंभ
    राजसमंद, चेतना भाट। कोरोना संक्रमण के तहत राज्य सरकार द्वारा किए गए लोक डाउन के दौरान 20 मार्च से ही द्वारकाधीश मंदिर में बंद की गई ठाकुरजी के दर्शनों की व्यवस्थाओं को सोमवार से पुन: बहाल किया जाएगा। मंदिर प्रशासन से प्राप्त जानकारी अनुसार तृतीय पीठाधीश्वर गोस्वामी बृजेश कुमार की आज्ञा के अनुसार ही दर्शन व्यवस्थाओं को प्रारंभ किया जा रहा है। इसमें मंदिर में मंगला, राजभोग व आरती के ही दर्शन ही होंगे। लॉकडाउन के दौरान से ही बंद दर्शन व्यवस्था करीब आठ माह बाद पुन: बहाल होगी लेकिन तीन दर्शनों के दौरान राज्य सरकार द्वारा जारी गाईड लाईन का पूर्ण रूप से पालन भी किया जाएगा। इसके लिए पूरे मंदिर को सेनेटाईज किया जा रहा है। वहीं मंदिर के दर्शनार्थ आने वाले वैष्णजनों के लिए दर्शन व्यवस्थाएं की जा रही है। ठाकुरजी की शाम को होने वाली आरती के दौरान आमजन के लिए दर्शन बंद रहेंगे तथा आरती के बाद ही दर्शन कराए जाएंगे। वहीं दर्शनों के दौरान सोशल डिस्टेंस, मास्क, सेनेटाईजर आदि का भी पूर्ण रूप से ध्यान रखा जाएगा।

कोरोना गाइड लाइन के नियम लागू

मंदिर में सोमवार से आरंभ होने वाले दर्शनों में मंदिर प्रशासन द्वारा पूर्ण सतर्कता बरती जा रही है। वहीं राज्य सरकार के नो मास्क नो एंट्री अभियान का भी पालन किया जाएगा। जिसमें बिना मास्क पहने मंदिर में दर्शन के लिए आने वाले दर्शनार्थियों को प्रवेश नहीं दिया जाएगा। दर्शनों के दौरान आने वाले दर्शनार्थियों के लिए मंदिर के गोवर्धन चौक तक मंदिर प्रशासन की ओर ऐहतियात के तौर पर बेरिकेट्स लगाए गए है। वहीं मंदिर मुख्य द्वारा से गोवर्धन चौक तक करीब 20 घोले बनाए जिनमें खेड़े होकर एक के बाद एक आगे बढ़ते हुए दर्शन कर सके। इधर, संक्रमण के खतरे को लेकर मंदिर प्रशासन की ओर से पूरे मंदिर में सेनेटाईजर दवा का छिंडक़ाव किया गया है। दर्शनों के दौरान गाईड लाईन की पालन दर्शनार्थियों के साथ ही मंदिर के अधिकारियों, सेवादारों द्वारा भी किया जाएगा।

व्यवस्थाओं में जुटा मंदिर प्रशासन

शारदीय नवरात्री के साथ ही खुलने वाले द्वारकाधीश मंदिर की दर्शनों को लेकर मंदिर प्रशासन की ओर पूर्ण तैयारियां जा रही है। जिसमें मंदिर अधिकारी भगवतीलाल पालीवाल, सहाय अधिकारी गणेशलाल सांचीहर, समाधानी राजकुमार गौरवा आदि मुस्तैदी के साथ मंदिर की तमाम व्यवस्थाओं में जुटे हुए है। जिसमें मंदिर को सनेटाईज करने के साथ ही आने वाले दर्शनार्थियों की सुरक्षा, दर्शन व्यवस्था, मास्क, सेनेटाईजर, सामाजिक दूरी आदि को लेकर व्यवस्थाओं को अंतिम रूप दिया गया।