खेतों में जमी बर्फ, कड़ाके की ठंड के साथ शीत लहर का कहर
राजसमंद, चेतना भाट। दिसम्बर माह के आखिरी में ठंड का सर्दी का असर बढऩे के साथ ही दिन एवं रात के तापमान में भी परिवर्तन हुआ है। सोमवार को दिन की शुरुआत हल्की धुप व कोहरे के साथ हुई। अपरान्ह बाद आसमां में बादल छाने से तापमान में हल्की बढ़ोत्तरी हुई है। जबकि शीत लहर चलने के कारण ठंड का अहसास भी रहा। सोमवार को अधिकतम तापमान 27.2 डिग्री सेल्सियस व न्यूनतम तापमान 2.7 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। सोमवार को भी बादल छाए रहने से गत दिवस के मुकाबले तापमान में 0.5 डिग्री की बढ़ोत्तरी दर्ज की गई। सूर्य देव के दिन भर बादलों के साथ लुकाछिपी करते रहे शाम करीब 4 बजे आसमां में बादल छाने से सूर्य देव पूरी तरह बादलों की आगोश में समा गए।

खेतों में जम गई बर्फ की परत

लगातार बढ़़ती ठंड के साथ ही चलती शीत लहर से ओस की बूंदों ने बर्फ का रूप ले लिया है। खेतों में फसलों पर पडऩे वाली ओस की बूंदे जमकर बर्फ में तब्दील हो गई है। इससे रात्री के समय पडऩे वाली ठंड के कहर का अंदाजा लगाया जा सकता है। ठंड व शीतलहर ने किसानों को चिंता में डाल दिया है। ठंडी व बर्फिली रातों के कारण फसलों का खराबा हो रहा है। ईधर, ठंड से मवेशियों को बचाने के लिए भी किशनों को अपना दोहरा समय लगाना पड़ रहा है। खेतोंं में लगी सब्जियों पर भी बर्फ की चादर चढ़ जाने से के साथ ही पाला गिरने से फसल खराब हो गई जिससे किसानों को काफी नुकसान उठाना पड़ रहा है।